• बेंगलुरु हिंसा मामले में शिवकुमार ने भाजपा पर कांग्रेस को बदनाम करने का लगाया आरोप

कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष डी के शिवकुमार ने कहा कि सभी को कानून का सम्मान करना चाहिए, चाहे वह सम्पत राज हों या डी के शिवकुमार। हम यह देख रहे हैं कि एक वर्ग कानून का दुरुपयोग कर रहा है।

बेंगलुरु। बेंगलुरु हिंसा के मामले में पूर्व महापौर सम्पत राज की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस का बचाव करते हुए पार्टी की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष डी के शिवकुमार ने मंगलवार को सत्तारूढ़ भाजपा पर उनकी पार्टी को बदनाम करने के लिए कानून के दुरुपयोग का आरोप लगाया। शिवकुमार ने कहा, ‘‘सभी को कानून का सम्मान करना चाहिए, चाहे वह सम्पत राज हों या डी के शिवकुमार। हम यह देख रहे हैं कि एक वर्ग कानून का दुरुपयोग कर रहा है। सम्पत राज निश्चित रूप से कानून का सम्मान करेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: येदियुरप्पा कैबिनेट में फेरबदल कोरोना से निपटने में सरकार की विफलता का सबूत: कांग्रेस 

राज की गिरफ्तारी को ‘बड़ा घटनाक्रम’ बताते हुए कर्नाटक के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि पहले से जमा किए गए सबूत और इस गिरफ्तारी से जो चीजें सामने आएंगी, उससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि हिंसा के पीछे कौन था। शिवकुमार ने यहां संवाददाताओं से कहा कि जो सत्ता में हैं और जो भाजपा में हैं, वे कानून का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं और कांग्रेस को बदनाम करने के उद्देश्य के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर यह कांग्रेस को निशाने पर लेने का प्रयास है, कांग्रेस के लोगों के इसमें शामिल होने के सबूत कहां हैं। मैंने आरोप पत्र देखा है। भाजपा यह कर रही है, कांग्रेस के नेताओं को परेशान करने का उनका इतिहास रहा है और वे ही इसके पीछे हैं।’’

कांग्रेस के पार्षद सम्पत राज पर 11 अगस्त को डीजे हल्ली, के जे हल्ली और आस-पास के क्षेत्रों में दंगे के दौरान पार्टी के ही पुलकेशीनगर के विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर पर हमला करने के लिए उकसाने का आरोप है और उन्हें आज तड़के गिरफ्तार किया गया। मूर्ति का घर इस हिंसा में पूरी तरह खाक हो गया था। वहीं, एक पुलिस थाने और कई अन्य सार्वजनिक और निजी संपत्तियों को क्षति पहुंची थी। हालांकि, शिवकुमार से जब यह पूछा गया कि क्या राज को बिना किसी गलती के गिरफ्तार किया गया तो उन्होंने कहा कि यह मामला अदालत में है और वह इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने CBI छापों पर कांग्रेस के विरोध को हास्यास्पद और निरर्थक बताया 

वहीं, कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के एक बयान पर शिवकुमार ने कहा कि विधायक ने उनके साथ इस संबंध में कोई बातचीत नहीं की है और हो सकता है कि वह मीडिया से बात कर रहे हों। मूर्ति ने कहा था कि वह चाहते हैं कि पार्टी प्रमुख उनके साथ खड़े हों। उन्होंने कहा, ‘‘हम किसी की व्यक्तिगत राय के आधार पर फैसला नहीं ले सकते हैं। जांच जारी है…उन्होंने जांच के साथ क्या किया और इसके पीछे की राजनीति क्या है, हम इसे जानते हैं…आने वाले दिनों में इस पर बात होगी।’’ हालांकि, शिवकुमार ने कहा कि वह प्रत्येक कांग्रेसी के साथ खड़े हैं, जो कानून का पालन करनेवाले हैं।

इससे पहले राज की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए मूर्ति ने संवाददाताओं से कहा था कि उन्हें दुख है कि उनकी पार्टी उनके साथ खड़ी नहीं है। बेंगलुरु में 11 अगस्त की रात में करीब 4,000 लोग सड़क पर निकल आए थे और विधायक के रिश्तेदार द्वारा की गई एक कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए भीड़ ने मूर्ति और उनकी बहन के घर में आग लगा दी थी।