कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद, जानें क्या खुला और क्या रहेगा बंद?

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद, जानें क्या खुला और क्या रहेगा बंद?

इस बीच एसकेएम ने एक बयान में कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के सभी कार्यालयों, बाजारों, दुकानों, कारखानों, स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को काम करने की अनुमति नहीं होगी।

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम), किसान संघ ने पिछले साल सितंबर में संसद द्वारा पारित केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में 27 सितंबर को भारत बंद करने का ऐलान किया है। भारत बंद को लेकर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि, सोमवार शाम 4 बजे तक बंद रहेगा। लोगों से अनुरोध है कि लंच के बाद ही निकलें, नहीं तो जाम में फंसे रहेंगे। एम्बुलेंस को, डॉक्टरों को, ज्यादा ज़रूरतमंदों को निकलने दिया जाएगा। दुकानदारों से भी अपील की है कि आज दुकानें बंद रखें।

इसे भी पढ़ें: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का भारत बंद आज सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक, इन रास्तों से जाने से बचे

इस बीच एसकेएम ने एक बयान में कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के सभी कार्यालयों, बाजारों, दुकानों, कारखानों, स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को काम करने की अनुमति नहीं होगी। सभी सार्वजनिक और निजी परिवहन को सड़कों पर चलने की अनुमति नहीं होगी। इसमें कहा गया है कि किसी भी सार्वजनिक समारोह की अनुमति भी नहीं दी जाएगी। वहीं बता दें कि, ओडिशा राज्य सड़क परिवहन निगम (OSRTC) की बस सेवाएं सोमवार को सुबह 6 बजे से दोपहर 3 बजे तक निलंबित रहेंगी।

भारत बंद: क्या बंद रहेंगे दुकानें, बाजार?

भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने कहा है कि व्यापारी, दुकानदार बंद का हिस्सा नहीं हैं। ऐसे में बाजार बंद होने की संभावना नहीं है। हालांकि, जिन राज्यों में राज्य सरकारें किसान संघों द्वारा बुलाए गए भारत बंद का समर्थन कर रही हैं, वहां दुकानें बंद होने की आशंका होगी।

भारत बंद: क्या खुला रहेगा

अस्पताल, मेडिकल स्टोर, राहत और बचाव कार्य और व्यक्तिगत आपात स्थिति में शामिल लोगों सहित सभी आपातकालीन और आवश्यक सेवाओं को उन राज्यों में छूट दी जाएगी जहां भारत बंद पूरी तरह से नहीं हो रहा है।

भारत बंद: क्या बंद रहेंगे बैंक?

अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ ने भी बंद में शामिल होने का फैसला किया है। यूनियन ने एक बयान में कहा कि एआईबीओसी के सहयोगी और राज्य इकाइयां सोमवार को पूरे देश में किसानों के विरोध कार्यों के साथ एकजुटता से शामिल होंगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।