आदित्य ठाकरे का बड़ा आरोप, महाराष्ट्र को विभाजित करने की हो रही कोशिश, विपक्ष की आवाज को दबाया जा रहा

aditya thackarey.
ANI
अंकित सिंह । Aug 01, 2022 4:43PM
आदित्य ने कहा कि आप जानते हैं कि हाल ही में राज्यपाल ने क्या कहा। उन्होंने जानबूझकर ठाणे और मुंबई का नाम लिया जहां चुनाव होने जा रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि जब उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री थे तो किसी ने उन पर भेदभाव का आरोप नहीं लगाया।

महाराष्ट्र की राजनीति में इन दिनों हलचल तेज है। जब से उद्धव ठाकरे की नेतृत्व वाली महा विकास आघाडी की सरकार गिरी है, शिवसेना जबरदस्त तरीके से मोदी सरकार पर हमलावर है। इन सबके बीच संशोधन के मामले में शिवसेना नेता संजय राउत की गिरफ्तारी के बाद राजनीति और गर्म हो गई है। आज शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने भाजपा और केंद्र सरकार पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा। आदित्य ठाकरे ने कहा कि महंगाई और बेरोजगारी है। लेकिन केवल एक चीज जिस पर लोग ध्यान केंद्रित करते हैं वह है राजनीति और अन्य दलों और उनके विधायकों को तोड़ना। इसके साथ ही शिवसेना के युवा नेता ने हाल में ही राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बयान को भी उठाया। 

इसे भी पढ़ें: शिवसेना सांसद संजय राउत को नहीं मिली राहत, 4 अगस्त तक ED की कस्टडी में रहेंगे

आदित्य ने कहा कि आप जानते हैं कि हाल ही में राज्यपाल ने क्या कहा। उन्होंने जानबूझकर ठाणे और मुंबई का नाम लिया जहां चुनाव होने जा रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि जब उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री थे तो किसी ने उन पर भेदभाव का आरोप नहीं लगाया। लेकिन अब जानबूझकर क्षेत्रवाद को लाया जा रहा है। लोगों में फूट डालने की कोशिश कर की जा रही है। महा विकास आघाडी की सरकार के पूर्व मंत्री ने कहा कि वह महाराष्ट्र को नीचे ले जाना चाहते हैं और इसे पांच भागों में विभाजित करना चाहते हैं। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि गलत के खिलाफ आवाज उठाने वालों को दबाया और उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: खाकस्पर्श! पहले अनिल देशमुख, फिर नवाब मलिक और अब संजय राउत, बीजेपी ने इस अंदाज में कसा तंज

आदित्य ठाकरे ने दावा किया है कि महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे की नेतृत्व वाली सरकार जल्दी गिर जाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि शिंदे सरकार का ध्यान सिर्फ गंदी राजनीति पर है। जनता का कल्याण उनका मकसद नहीं है। आदित्य ठाकरे ने कहा कि राज्य में मूसलाधार बारिश हुई जिसकी वजह से कई इलाके में बाढ़ आई। लेकिन सरकार को कोई चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग संजय राउत की गिरफ्तारी का जश्न मना रहे हैं। यह वही लोग हैं जिन्होंने खुद को बेच दिया है। ऐसे लोगों पर ध्यान देने की कोई आवश्यकता नहीं है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़