पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से दरभंगा जाने वाली साइकिल गर्ल से PM मोदी ने की बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 26, 2021   09:37
पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से दरभंगा जाने वाली साइकिल गर्ल से PM मोदी ने की बात

16 वर्षीय ज्योति देशभर के उन 32 बच्चों में से थीं जो अपने संबंधित एनआईसी केंद्रों पर पहुंचे थे और प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

दरभंगा। देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान अपने पिता को साइकिल के कैरियर पर बैठाकर गुरूग्राम से 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर बिहार के दरभंगा पहुंची साइकिल गर्ल के नाम से चर्चित ज्योति कुमारी सोमवार को फिर से सुर्खियों में उस समय आईं जब उन्होंने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत की। 16 वर्षीय ज्योति देशभर के उन 32 बच्चों में से थीं जो अपने संबंधित एनआईसी केंद्रों पर पहुंचे थे और प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के समय प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस अवसर पर ज्योति के पिता, उनकी मां और स्थानीय प्रशासनिक पदाधिकारी मौजूद थे। 

इसे भी पढ़ें: बोरिस जॉनसन ने भारत को दी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं, बोले- कोरोना के खिलाफ जंग में दोनों देश मिलकर कर रहे हैं 

मोदी ने बच्चों के साहस और दृढ़ संकल्प के उनके कृत्यों के लिए उनकी सराहना की और पुरस्कार प्राप्त करने वाले बच्चों से कहा कि वे प्रत्येक वर्ष कम से कम एक महापुरुष की जीवनी जरूर पढ़ें। इससे जीवन में बहुत प्रेरणा मिलती है। दरभंगा के जिलाधिकारी त्यागराजन एसएम ने कहा कि ज्योति कुमारी को बहादुरी के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार प्रदान किया गया है। पुरस्कार स्वरूप उसे एक लाख रुपये, प्रशस्ति पत्र एवं मेडल प्रदान किया जाएगा। बिहार सरकार द्वारा दरभंगा जिला के सिंहवाड़ा प्रखंड के सिरहुल्ली गांव निवासी मोहन पासवान की बेटी ज्योति कुमारी के बारे में जिलाधिकारी ने कहा कि दरभंगा के लिए यह गर्व की बात है। ज्योति को नशा मुक्ति अभियान के लिए राज्य सरकार द्वारा पहले ही ब्रांड एंबेसडर बनाया जा चुका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।