ममता बनर्जी से मिले भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी, चर्चाओं का दौर शुरू, लगातार साधते रहे हैं निशाना

Suvendu Adhikari
ANI
अंकित सिंह । Nov 25, 2022 2:37PM
शुभेंदु अधिकारी पहले तृणमुल कांग्रेस में ही थे। लेकिन 2021 चुनाव से पहले उन्होंने पार्टी का दामन छोड़ दिया था। शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम से ममता बनर्जी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में शुभेंदु अधिकारी की जीत हुई थी जिसके बाद यह कटुता और बढ़ गई थी।

पश्चिम बंगाल की राजनीति में आगे क्या कुछ होने वाला है, इसको लेकर कयासों का दौर लगातार जारी है। इन सबके बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने मुलाकात की है। खबर के मुताबिक मुख्यमंत्री ने ही शुभेंदु अधिकारी को मिलने के लिए बुलाया था। शुभेंदु अधिकारी के अलावा भाजपा नेता अग्निमित्र पौल और मनोज तिग्गा भी उनके साथ मौजूद रहे। आपको बता दें कि शुभेंदु अधिकारी पहले तृणमुल कांग्रेस में ही थे। लेकिन 2021 चुनाव से पहले उन्होंने पार्टी का दामन छोड़ दिया था। शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम से ममता बनर्जी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में शुभेंदु अधिकारी की जीत हुई थी जिसके बाद यह कटुता और बढ़ गई थी। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के रूप में सीवी आनंद ने ली शपथ, शुभेंदु अधिकारी बोले- हमें दरवाज़े से लौटना पड़ा

हालांकि अब ममता बनर्जी ने शुभेंदु अधिकारी को निजी तौर पर बुलाकर बात की है। मामला चर्चा में आया तो शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि यह एक के सौजन्य भेंट थी। इसका कोई राजनीतिक मायने ना निकाला जाए। हालांकि, दोनों के बीच में क्या बातचीत हुई है, इसको लेकर खुलासा नहीं हुआ है। दूसरी ओर पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल सीबी आनंद बोस के शपथ ग्रहण समारोह में सीटों की व्यवस्था को लेकर विपक्ष ने हंगामा मचाया था। शुभेंदु अधिकारी ने राज्य सरकार पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा। ऐसे में शुभेंदु अधिकारी और ममता बनर्जी की यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: अग्निमित्रा पॉल के दावे पर TMC MLA बोले, दिसंबर खत्म होने से पहले बीजेपी का सफाया हो जाएगा

बताया जा रहा है कि शुभेंदु को ममता बनर्जी ने चाय पर बुलाया था। यह महज एक शिष्टाचार मुलाकात थी। दूसरी और ममता बनर्जी ने कहा कि हमने आपको राज्यपाल की शपथ के लिए आमंत्रित किया था लेकिन आप सब नहीं आए। वास्तव में, वामपंथी नेता बिमान बोस ने समारोह में भाग लिया, मैं उनकी आभारी हूं। इसके साथ ही उन्होंने हमला करते हुए कहा कि वाम शासन के दौरान, उन्होंने शिक्षा विभाग को अपने पार्टी कार्यालय में बदल दिया। शिक्षा मंत्री के लिए काम करना मुश्किल है। विकास की बात क्यों नहीं करते?

अन्य न्यूज़