'साल 2024 में सत्ता में नहीं आएगी भाजपा', जांच एजेंसियों का जिक्र कर बोलीं ममता, बंगाल को तोड़ना आसान नहीं

Mamata Banerjee
ANI Image
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि आज की स्थिति में मैं कहना चाहती हूं कि जो उद्योगपति हैं उन्हें डरने की ज़रूरत नहीं है। मुझे पता है आपके घर में ईडी, आईटी और सीबीआई की छापेमारी हो चुकी है। लेकिन मुझे विश्वास है कि 2024 में भाजपा नहीं आएगी।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने दावा किया कि साल 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत नहीं होगी। दरअसल, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस के विधायक पार्थ चटर्जी और उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में हैं और तृणमूल विधायक माणिक भट्टाचार्य भी जांच एजेंसी की रडार में हैं।

इसे भी पढ़ें: कोर्ट ने पार्थ चटर्जी, उनकी सहयोगी की हिरासत के लिए ईडी की याचिका पर आदेश सुरक्षित रखा 

भाजपा पर बरसीं ममता

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि आज की स्थिति में मैं कहना चाहती हूं कि जो उद्योगपति हैं उन्हें डरने की ज़रूरत नहीं है। मुझे पता है आपके घर में ईडी, आईटी और सीबीआई की छापेमारी हो चुकी है। लेकिन मुझे विश्वास है कि 2024 में भाजपा नहीं आएगी। इसलिए पुराना घर (संसद) तोड़कर नया घर (सेंट्रल विस्टा) बना रहे हैं। क्योंकि उनका पुराना घर में जाना फिर से नहीं हो पाएगा। लेकिन किसी भी घर में चले जाए अगर भाग्य ख़राब हो जाएगा तो भाग्य ठीक नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि उनके (भाजपा) के पास कोई काम नहीं है, उनका काम 3-4 एजेंसियों के जरिए राज्य सरकारों को अपने हाथ में लेना है। उन्होंने महाराष्ट्र, अब झारखंड पर कब्जा कर लिया है लेकिन बंगाल ने उन्हें हरा दिया है। बंगाल को तोड़ना आसान नहीं है क्योंकि आपको पहले रॉयल बंगाल टाइगर से लड़ना होगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे विश्वास है कि भाजपा 2024 में (सत्ता में) नहीं आएगी। भारत में बेरोजगारी 40% बढ़ रही है लेकिन बंगाल में 45% कम हो गई... आज मीडिया ट्रायल चल रहा है और वे लोगों को आरोपी कह रहे हैं। वे सिर्फ बंगाल की छवि खराब करना चाहते हैं। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा का यूटर्न ! कोलकाता में 28 जुलाई को पार्टी अब नहीं करेगी काली पूजा 

आपको बता दें कि ममता बनर्जी की पार्टी के नेता पार्थ चटर्जी और माणिक भट्टाचार्य भर्ती घोटाला मामले को लेकर ईडी की रडार में हैं। पार्थ चटर्जी को तो ईडी की हिरासत में हैं। जबकि माणिक भट्टाचार्य को जांच एजेंसी ने तलब किया है। इतना ही नहीं ईडी ने 22 जुलाई को माणिक भट्टाचार्य के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इसके अलावा जांच एजेंसी ने भर्ती घोटाले में कथित रूप से शामिल अन्य लोगों के यहां भी छापेमारी की थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़