भाजपा का यूटर्न ! कोलकाता में 28 जुलाई को पार्टी अब नहीं करेगी काली पूजा

Kali Puja
ANI Image
स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भाजपा की महिला मोर्चा की अध्यक्ष तनुजा चक्रवर्ती ने बताया कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि वह कोलकाता में नहीं हैं। हालांकि माना जा रहा है कि भाजपा काली पूजा को लेकर किसी नए विवाद में नहीं फंसना चाहती है। ऐसे में पार्टी ने अपना निर्णय बदल दिया।

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा के मां काली को लेकर पैदा किए गए विवाद के बीच भारतीय जनता पार्टी की महिला मोर्चा ने 28 जुलाई को कोलकाता में पार्टी कार्यालय के सामने मां काली की पूजा आयोजित करने का निर्णय किया था। लेकिन अब भाजपा ने यूटर्न ले लिया है। लेकिन इसकी वजह अभी सामने नहीं आई है। कहा जा रहा है कि भाजपा 28 जुलाई को पार्टी कार्यालय के सामने अब मां काली की पूजा का आयोजन नहीं करने वाली है।

इसे भी पढ़ें: संविधान के प्रति सम्मान का भाव नहीं रखती तृणमूल, मां काली का किया अपमान, ममता के गढ़ में स्मृति का तीखा प्रहार 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कोलकाता में मुरलीधर लेन स्थित भाजपा मुख्यालय के सामने 28 जुलाई को होने वाली काली पूजा का आयोजन नहीं होगा। हालांकि ऐसा क्यों हो रहा है ? इसकी जानकारी नहीं है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भाजपा की महिला मोर्चा की अध्यक्ष तनुजा चक्रवर्ती ने बताया कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि वह कोलकाता में नहीं हैं। हालांकि माना जा रहा है कि भाजपा काली पूजा को लेकर किसी नए विवाद में नहीं फंसना चाहती है। ऐसे में पार्टी ने अपना निर्णय बदल दिया।

इसे भी पढ़ें: काली विवाद: भाजपा ने फिर साधा महुआ मोईत्रा पर निशाना, पलटवार में TMC MP ने कहा- भारी पड़ेगा Maa O Maa 

रैली का किया आयोजन

भाजपा ने 28 जुलाई को होने वाली काली पूजा के आयोजन को रद्द कर दिया है लेकिन पार्टी ने पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी को लेकर कोलकाता में 28 जुलाई को एक रैली का आयोजन किया है। इसी के चलते माना जा रहा है कि पार्टी ने फिलहाल काली पूजा के आयोजन का अपना निर्णय बदला। आपको बता दें कि भाजपा ने निर्णय किया था कि काली पूजा का पूरा आयोजन महिलाएं करेंगी और पुरोहित भी महिला ही रहेगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़