भाजपा 22 जनवरी को राजगढ़ में करेगी प्रदर्शन, कलेक्टर के खिलाफ दर्ज कराएगी FIR

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   19:10
भाजपा 22 जनवरी को राजगढ़ में करेगी प्रदर्शन, कलेक्टर के खिलाफ दर्ज कराएगी FIR

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ट्वीट किया कि मैं किसी भी कीमत पर इस तरह की घटना बर्दाश्त नहीं कर सकता। मैं 22 जनवरी को राजगढ़ आकर वहाँ के निरपराध लोगों के साथ प्रशासन द्वारा की गई बर्बरता के खिलाफ प्रदर्शन करूंगा।

राजगढ़/भोपाल (मध्यप्रदेश)। राजगढ़ की महिला कलेक्टर निधि निवेदिता और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा द्वारा राजगढ़ जिले के ब्यावरा में संशोधित नागिरकता कानून (सीएए) के समर्थन में रैली निकालने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को कथित तौर पर चांटे मारने के एक दिन बाद भाजपा ने सोमवार को कहा कि वह 22 जनवरी को मध्यप्रदेश सरकार के खिलाफ राजगढ़ में प्रदर्शन करेगी।पार्टी ने कहा कि वह इस मामले में राजगढ़ कलेक्टर के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराएगी। कलेक्टर निधि एवं डिप्टी कलेक्टर प्रिया ने राजगढ़ जिले के ब्यावरा में सीएए के समर्थन में धारा 144 लगाने के बाद भी रैली निकालने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं की भारी तादात में तैनात पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सामने कथित रूप से रविवार को चांटे मारे थे। इससे नाराज प्रदर्शनकारियों ने इन दोनों अधिकारियों से भी बदसलूकी की थी और डिप्टी कलेक्टर प्रिया की चोटी खींचने के साथ-साथ उसके कमर में लात भी मारी थी। इस सारी घटना के कुछ वीडियो भी वायरल हो गये थे। 

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ट्वीट किया,‘‘मैं किसी भी कीमत पर इस तरह की घटना बर्दाश्त नहीं कर सकता। मैं 22 जनवरी को राजगढ़ आकर वहाँ के निरपराध लोगों के साथ प्रशासन द्वारा की गई बर्बरता के खिलाफ प्रदर्शन करूंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘राजगढ़ का यह कृत्य कांग्रेस सरकार के ताबूत में आखिरी कील साबित होगा। इसके खिलाफ हम एक विशाल जनांदोलन खड़ा करेंगे। हम कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायेंगे और अगर एफआईआर दर्ज नहीं की गई, तो कोर्ट भी जायेंगे।’’चौहान ने कहा, ‘‘राजगढ़ की घटना से मैं स्तब्ध हूँ। हाथों में तिरंगा झंडा लिये,  भारत माता की जय  और  वंदेमातरम  के नारे लगा रहे लोगों के साथ ऐसी बर्बरता की जायेगी, इसकी मैंने कल्पना भी नहीं की थी।’’  वहीं, भाजपा द्वारा प्राथमिकी दर्ज करवाने का ऐलान करने के बारे में पूछने पर राजगढ़ की कलेक्टर निधि निवेदिता ने ‘भाषा’ को बताया, ‘‘इस घटना के राजनीतिककरण से मैं व्यथित हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने केवल उस व्यक्ति के गाल को थपथपाया था। मैंने उसे चांटा नहीं मारा था। हालांकि, हमें बल प्रयोग करके इस गैरकानूनी रैली में आये लोगों को तितर-बितर करने की कानूनी शक्तियां भी थीं।’’ 

इसे भी पढ़ें: हिमंत विश्व शर्मा पर बरसे तरुण गोगोई, बताया आदतन झूठा

निधि ने बताया, ‘‘कानून- व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर मैंने कुछ दिन पहले सीएए के समर्थन में कुछ मुस्लिमों एवं कुछ कांग्रेस नेताओं को दी गई अनुमति को भी वापस ले लिया था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहती थी कि सबके साथ एक समान व्यवहार हो, इसलिए मैंने सीएए के समर्थन में रविवार को होने वाली रैली की अनुमति नहीं दी थी।’’निधि ने बताया, ‘‘राजगढ़ जिला साम्प्रदायिक रूप से संवेदनशील जिला है। मुझे सूचना मिली थी कि रविवार को सीएए के समर्थन में होने वाली रैली के बाद कुछ लोग सीएए के विरोध में भी रैली करना चाहते हैं।’’ उन्होंने कहा कि कल ब्यावरा में हुए घटना के मामले में निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के लिए 124 लोंगों के खिलाफ भादंवि की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं, डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने रविवार को बताया था, ‘‘हमने कोई हाथापाई नहीं की है। उन लोगों (प्रदर्शनकारियों) ने हमारे साथ बदसलूकी की। हम अपने-अपने प्वाइंट्स पर ड्यूटी कर रहे थे। उधर से भीड़ आई। उन्होंने मेरे साथ बदसलूकी की। भूपेन्द्र सिंह ने मेरी कमर में लात भी मारी और एक अन्य व्यक्ति ने पीछे से मेरी चोटी खींच दी। उसके बाद ये सब कुछ हुआ।’’उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों पर ब्यावरा में कोई लाठीचार्ज नहीं हुआ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।