हिमंत विश्व शर्मा पर बरसे तरुण गोगोई, बताया आदतन झूठा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   18:55
हिमंत विश्व शर्मा पर बरसे तरुण गोगोई, बताया आदतन झूठा

एक दिन पहले ही ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) ने भी शर्मा के खिलाफ इस तरह के आरोप लगाये थे और कहा था कि मंत्री ने विधानसभा में झूठा दावा किया था कि समझौते में कट-ऑफ तारीख के तौर पर 24 मार्च, 1971 का उल्लेख नहीं है।

गुवाहाटी। असम सरकार में मंत्री हिमंत विश्व शर्मा को ‘आदतन झूठा’ करार देते हुए कांग्रेस नेता तरुण गोगोई ने सोमवार को आरोप लगाया कि भाजपा नेता ने असम समझौते के बारे में झूठ बोला था जबकि उन्होंने उच्चतम न्यायालय में दाखिल हलफनामे में अवैध प्रवासियों का पता लगाने और निर्वासन के लिए कट-ऑफ वर्ष 1971 दर्ज किया था। असम के पूर्व मुख्यमंत्री गोगोई ने एक समय अपनी सरकार में मंत्री रहे शर्मा पर राज्य की जनता को झूठी व्याख्या करके गुमराह करने का आरोप लगाया।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी बोले- जिन्हें जनता ने नकार दिया उनके पास अब भ्रम और झूठ का शस्त्र बचा है

एक दिन पहले ही ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) ने भी शर्मा के खिलाफ इस तरह के आरोप लगाये थे और कहा था कि मंत्री ने विधानसभा में झूठा दावा किया था कि समझौते में कट-ऑफ तारीख के तौर पर 24 मार्च, 1971 का उल्लेख नहीं है। गोगोई ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हिमंत विश्व शर्मा ने विधानसभा में झूठ बोला था कि समझौते में 1971 के बारे में कुछ नहीं कहा गया। झूठ बोलना उनकी आदत में है। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर बात पर झूठ बोलते हों तो और क्या उम्मीद की जा सकती है।’’

इसे भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था कुप्रबंधन की शिकार, आम जनजीवन भी बुरी तरह प्रभावित है: सीताराम येचुरी

उन्होंने कहा कि शर्मा संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ आंदोलन की दिशा भटकाने के लिए असम की जनता को गुमराह कर रहे हैं। गोगोई ने कहा, ‘‘हिमंत ने खुद 14 जुलाई, 2015 को उच्चतम न्यायालय में हलफनामा जमा किया था और एनआरसी को अद्यतन करने के काम के लिए 1971 को आधार वर्ष बताया था। अजीब बात है कि अब वह कह रहे हैं कि समझौते में 1971 का कोई जिक्र नहीं है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।