कई राज्यों के बीच सीमा निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए : सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2021   17:33
कई राज्यों के बीच सीमा निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए : सरकार

सरकार ने बताया कि हरियाणा-हिमाचल प्रदेश, लद्दाख संघ राज्य क्षेत्र-हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र-कर्नाटक तथा असम-अरूणाचल प्रदेश, असम-नागालैंड, असम -मेघालय और असम-मिजोरम के बीच सीमाओं के निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए हैं तथा उनके बीच क्षेत्र संबंधी दावे एवं प्रति दावे किये गए हैं।

नयी दिल्ली। सरकार ने बताया कि हरियाणा-हिमाचल प्रदेश, लद्दाख संघ राज्य क्षेत्र-हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र-कर्नाटक तथा असम-अरूणाचल प्रदेश, असम-नागालैंड, असम -मेघालय और असम-मिजोरम के बीच सीमाओं के निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए हैं तथा उनके बीच क्षेत्र संबंधी दावे एवं प्रति दावे किये गए हैं। लोकसभा में हाजी फजलुर रहमान के प्रश्न के लिखित उत्तर में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने यह जानकारी दी। गृह राज्य मंत्री ने कहा कि कुछ विवादित सीमावर्ती क्षेत्रों में यदा-कदा विरोध और वहां हिंसा की घटनाओं की रिपोर्ट मिली हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना महामारी के कारण जनगणना संबंधी जमीनी कार्यों को स्थगित किया गया: मंत्री

राय ने कहा कि केंद्र सरकार का लगातार यह दृष्टिकोण रहा है कि अंतर राज्य विवाद केवल संबंधित राज्य सरकारों के सहयोग से सुलझ सकें और विवाद का सौहार्दपूर्ण समाधान परस्पर समझ की भावना से करने के लिये केंद्र सरकार केवल सुविधा प्रदाता के रूप में कार्य करे।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के मेरठ में दिनदहाड़े बंदूक की नोक पर तेल व्यापारी से 15 लाख की लूट

उन्होंने बताया कि हरियाणा-हिमाचल प्रदेश, लद्दाख संघ राज्य क्षेत्र-हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र-कर्नाटक तथा असम-अरूणाचल प्रदेश, असम-नगालैंड, असम-मेघालय और असम-मिजोरम के बीच सीमाओं के निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए तथा उनके बीच क्षेत्र संबंधी दावे एवं प्रति दावे किये गए हैं। गौरतलब है कि असम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद सोमवार को अचानक हिंसक संघर्ष में तब्दील हो गया जिसमें कम से कम छह लोगों की मौत हो गई और एक पुलिस अधीक्षक समेत 60 अन्य घायल हो गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।