BSF का जवान निकला हथियार तस्करों का किंगपिन, झारखंड ATS ने बड़े गिरोह का किया पर्दाफाश

BSF का जवान निकला हथियार तस्करों का किंगपिन, झारखंड ATS ने बड़े गिरोह का किया पर्दाफाश

हथियार तस्करों के पास से 8 हजार राउंड से ज्यादा कारतूस, 14 आधुनिक पिस्टल, 21 मैगजीन सहित कई सामान बरामद किए गए है। पंजाब के बीएसएफ के जवान को इस पूरे नेटवर्क के किंगपिन के रूप में गिरफ्तार किया गया है।

झारखंड एटीएस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। देशभर में उग्रवादी और अपराधिक संगठनों को हथियार सप्लाई करने के नेटवर्क का खुलासा करते हुए पांच लोगों की गिरफ्तारी हुई है। पंजाब के बीएसएफ के जवान को इस पूरे नेटवर्क के किंगपिन के रूप में गिरफ्तार किया गया है। वहीं उनके निशानदेही पर 14 पिस्टल और आठ हजार से ज्यादा कारतूस भी बरामद किए गए हैं। सप्लाई आर्म्स  चेन को तोड़ने के लिए इस तरह की कार्रवाई की जा रही है। इसमें कई इंटरस्टेट नेटवर्क उजागर हुए हैं। देश के 5 राज्यों बिहार, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश में अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी के बाद 5 लोगों को गिरफ्तार किया है।

इसे भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने बढ़ाई राशि, अब सीआरपीएफ के शहीद जवानों के परिवार को मिलेंगे 35 लाख

आईजी अभियान अमोल विष्णुकांत होमकर ने कहा कि एंटी नक्सल ऑपरेशन में कंधे से कंधा मिलाकर सभी अपने कार्य कर रहे हैं। जो इस तरह के तत्व जिनका नाम आया है उसके लिए जो कानून में कड़ी से कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है वो करेंगे, जिससे की इस तरह की हरकत की पुर्नावृत्ति नहीं हो। हथियार तस्करों के पास से 8 हजार राउंड से ज्यादा कारतूस, 14 आधुनिक पिस्टल, 21 मैगजीन सहित कई सामान बरामद किए गए है।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु के जवान को वीर चक्र से सम्मानित किया जाना गौरव की बात: स्टालिन

इस मामले में बीएसएफ के एक वर्तमान और एक पूर्व जवान की भी गिरफ्तारी हुई है। सबसे हैरानी की बात ये है कि जो कारतूस बरामद किया गया है उसे बीएसएफ कैंप में ही रखा गया था। पुलिस अधिकारी के अनुसार पंजाब के बीएसएफ की 116 बटालियन का जवान पूरे नेटवर्क में किंगपिन का काम कर रहा था। एटीएस की टीम ने छापामारी करते हुए  पंजाब के फिरोजपुर में स्थित बीएसएफ बटालियन के कैंप के अंदर छापेमारी करते हुए एक अन्य बीएसएफ जवान कार्तिक बेहरा को गिरफ्तार किया। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...