दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड के आधिकारिक और आवासीय परिसरों पर सीबीआई की छापेमारी, पांच लोग गिरफ्तार

दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड के आधिकारिक और आवासीय परिसरों पर सीबीआई की छापेमारी, पांच लोग गिरफ्तार

कंपनी का गिरफ्तार अधिकारी मध्य प्रदेश में तैनात एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी का भाई और डीबीएल में भागीदार भी बताया जा रहा है। सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नई दिल्ली, बैंगलोर, कोचीन, गुरुगांव और भोपाल सहित पांच शहरों में तलाशी ली जा रही है।

भोपाल। राजधानी भोपाल में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक टीम ने शुक्रवार को निर्माण कंपनी दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड (डीबीएल) के अधिकारियों और आवासीय परिसरों पर छापेमारी की।

सीबीआई ने 3 दिन पहले कंपनी के कार्यकारी निदेशक रैंक के एक अधिकारी को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के एक अधिकारी को 20 लाख रुपये की रिश्वत देने की कोशिश करते हुए पकड़ा था।

इसे भी पढ़ें:इमरती देवी को उनके विभाग की कोई जानकारी नहीं, बीजेपी और कांग्रेस दोनो ने कसा तंज

कंपनी का गिरफ्तार अधिकारी मध्य प्रदेश में तैनात एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी का भाई और डीबीएल में भागीदार भी बताया जा रहा है।

सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नई दिल्ली, बैंगलोर, कोचीन, गुरुगांव और भोपाल सहित पांच शहरों में तलाशी ली जा रही है। अधिकारी ने ये भी कहा अभी तक चार करोड़ रुपये नकद बरामद किए जा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें:MP में सभी टाइगर रिज़र्व हुए हॉउसफुल, नए साल के जश्न के लिए है पर्यटकों का आमद 

सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने पुष्टि की कि एनएचएआई, बैंगलोर के क्षेत्रीय अधिकारी, डीबीएल के अकील अहमद कार्यकारी निदेशक देवेंद्र जैन, डीबीएल के महाप्रबंधक, रत्नाकरण साजीलाल, डीबीएल के एक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा और एक निजी व्यक्ति अंजू गुप्ता सहित पांच लोगों ने पुष्टि की। अधिकारी ने कहा कि उनसे रिश्वत मामले में पूछताछ की जा रही है।

डीबीएल देश भर में राजमार्गों और मेट्रो परियोजनाओं के निर्माण में शामिल है। सूत्रों ने बताया कि दिल्ली से सीबीआई की एक टीम शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे शहर के चूनाभट्टी इलाके में डीबीएल के कॉरपोरेट कार्यालय पहुंची और तलाशी शुरू की।

बाद में एक अलग टीम डीबीएल के निदेशकों के आवासीय परिसर में पहुंची। डीबीएल के मालिक दिलीप सूर्यवंशी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी और पुराने सहयोगियों में से एक माने जाते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...