मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय उच्च मार्ग-707 के पांवटा साहिब-गुम्मा-फेडिज अनुभाग के निर्माण कार्य को गति प्रदान करने के निर्देश दिए

Jai Ram Thakur
बैठक में अवगत करवाया गया कि राष्ट्रीय उच्च मार्ग-707 का निर्माण कार्य चार पैकेज में विभाजित किया गया है और पैकेज-चार के अन्तर्गत श्री क्यारी से गुम्मा भाग का कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है। यह भी बताया गया कि लगभग दस करोड़ रुपये की मुआवजा राशि वितरित की जा चुकी है और शेष राशि का वितरण भी शीघ्र ही कर दिया जाएगा।

 शिमला ।  मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने अधिकारियों को राष्ट्रीय उच्च मार्ग-707 के पांवटा साहिब-गुम्मा-फेडिज अनुभाग के निर्माण कार्य को गति प्रदान करने के निर्देश दिए हैं ताकि इसे जल्द से जल्द राज्य के लोगों को समर्पित किया जा सके।

मुख्यमंत्री लोक निर्माण विभाग के पावंटा साहिब विश्राम गृह में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ जिला सिरमौर में जारी विभिन्न विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।  बैठक में अवगत करवाया गया कि राष्ट्रीय उच्च मार्ग-707 का निर्माण कार्य चार पैकेज में विभाजित किया गया है और पैकेज-चार के अन्तर्गत श्री क्यारी से गुम्मा भाग का कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है। यह भी बताया गया कि लगभग दस करोड़ रुपये की मुआवजा राशि वितरित की जा चुकी है और शेष राशि का वितरण भी शीघ्र ही कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने अखिल भारतीय प्रबंधन संस्थान, (आईआईएम) धौलाकुंआ के कार्य की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया और अधिकारियों को इसके कुछ भाग का कार्य इसी वर्ष अगस्त माह तक पूर्ण कर इसे हस्तांतरित करने के निर्देश दिए ताकि इसे क्रियाशील किया जा सके। बैठक में बताया गया कि आईआईएम में वर्ष 2022 के लिए 600 से अधिक छात्रों का दाखिला किया जाएगा। आईआईएम की सुरक्षा दीवार का 85 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है और शैक्षणिक सत्र 2023 नए कैम्पस मेें प्रारम्भ किया जा सकेगा।

इसे भी पढ़ें: जल गुणवत्ता सर्वेक्षण में हिमाचल देश भर में प्रथमः महेंद्र सिंह ठाकुर

जिला में नए प्रापण केंद्रों की स्थापना के मामले पर चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने किसानों की सुविधा के लिए कृषि उपज विपणन समिति और हिमाचल प्रदेश राज्य खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के माध्यम से गेंहू और धान का प्रापण प्रारम्भ करने की सम्भावनाएं तलाशने के निर्देश दिए। बैठक में बताया कि जिला में तीन केंद्रों हरीपुर टोहाना, कालाअम्ब और रामपुर घाट में प्रापण प्रक्रिया प्रारम्भ की जा चुकी है लेकिन जिला में प्रापण केंद्रों की संख्या बढ़ाए जाने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें: कांगड़ा जिला में दस स्थानों पर पूर्व चेतावनी प्रणाली होगी विकसित: डीसी

बैठक में ऊर्जा मंत्री सुख राम चैधरी, नाहन से विधायक डाॅ. राजीव बिन्दल, पच्छाद से विधायक रीना कश्यप, हिमाचल प्रदेश राज्य खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बलदेव तोमर, जिला परिषद की अध्यक्षा सीमा कनयाल, उपायुक्त राम कुमार गौतम, अतिरिक्त उपायुक्त सोनाक्षी सिंह तोमर, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़