कांग्रेस का सिद्धू का बड़ा फरमान, कहा-30 सितंबर तक चुनाव पैनल को दें अंतिम रूप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 14, 2021   23:13
कांग्रेस का सिद्धू का बड़ा फरमान, कहा-30 सितंबर तक चुनाव पैनल को दें अंतिम रूप
प्रतिरूप फोटो

राज्य एकता में विघटनकारी अंदरूनी कलह के चलते अब कांग्रेस ने ,कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह, सिद्धू को अपने संस्थागत तंत्र लांच करने के लिए 30 सितंबर तक की सीमा निर्धारित की है।

पंजाब में 'सिद्धू बनाम अमरिंदर' सुर्खियों में कांग्रेस पार्टी अब ठोस कदम उठा कर चुनाव की तैयारियों की दिशा में आगे बढ़ने के लिए बेताब है। राज्य एकता में विघटनकारी अंदरूनी कलह के चलते अब कांग्रेस ने ,कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को अपने संस्थागत तंत्र लांच करने के लिए 30 सितंबर तक की सीमा निर्धारित की है।

इसे भी पढ़ें: आतंकवादी मॉड्यूल के चार सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद पंजाब में हाई अलर्ट जारी

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हमें सितंबर के पहले सप्ताह में पैनल की घोषणा करनी है और राज्य इकाई के लिए आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है।आपको बता दें कि प्रत्येक चुनाव के लिए, कांग्रेस के राज्य विभिन्न पैनल तैयार करते हैं। जैसे अभियान समिति, घोषणापत्र समिति आदि जो भविष्य की राजनीति के दृष्टिकोण पर निर्णय लेते हैं और चुनाव की योजना बनाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब कें कृषि विभाग ने धान की पराली के प्रबंधन को करीब 31,000 मशीनों की मंजूरी दी

पंजाब में, हालांकि, सिद्धू और सीएम अमरिंदर सिंह के बीच टकराव , चुनावी अभियान की शुरुआत को चिह्नित करने वाली प्रक्रिया को अंतिम रूप देने में एक संकट के रूप में उभरा है। प्रतिष्ठित सूत्रों ने के अनुसार उन्होंने' ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी'  से नाराज होकर  राज्य इकाई से कहा है कि उसे 30 सितंबर तक पैनल बंद कर देना चाहिए। फिर उन्हें अनुमोदन और प्रकाशन के लिए केंद्रीय प्रबंधन के पास भेजा जाएगा।हालांकि कांग्रेस कुछ महीने पहले ही पंजाब में चुनाव में जाने के लिए आश्वस्त थी। लेकिन अचानक असंतोष और गुटबाजी के प्रकोप ने एक संकट पैदा कर दिया। जिस से उभरने के लिए सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के बॉस के रूप में नियुक्त किया  गया था। हालांकि, वह इस टकराव को समाप्त करने में असमर्थ रहे । राज्य के दो शीर्ष नेताओं को एक साथ लाने के बार-बार प्रयास में पार्टी विफल रही और कांग्रेस को अकाली दल के रूप में  एक आक्रामक AAP अभियान का सामना भी करना पड़ रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।