कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने किया विवादित ट्वीट, भाजपा ने राष्ट्रीय महिला आयोग से की कार्रवाई की मांग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 25, 2020   10:43
कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने किया विवादित ट्वीट, भाजपा ने राष्ट्रीय महिला आयोग से की कार्रवाई की मांग

इंदौर जिले की राऊ विधानसभा सीट के विधायक जीतू पटवारी ने नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा नीत सरकार पर निशाना साधने के लिए ट्वीट किया, पुत्र के चक्कर में पांच पुत्री पैदा हो गई - नोटबंदी, जीएसटी, महंगाई, बेरोजगारी और मंदी। परंतु अभी तक विकास पैदा नहीं हुआ।

भोपाल। कांग्रेस नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री द्वारा बुधवार को भाजपा नीत केन्द्र सरकार को घेरने के लिए किये गये एक विवादास्पद ट्वीट पर प्रदेश की राजनीति गरमा गई और भाजपा ने इस ट्वीट को नारी द्वेषी बताते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग से जीतू पटवारी पर कार्रवाई करने की मांग की है। हालांकि, चारों तरफ सेइस ट्वीट की हो रही कड़ी आलोचना के बाद पटवारी ने अपने इस कथित नारी विरोधी ट्वीट को बुधवार देर रात को अपने ट्विटर अकाउंट से हटा दिया और इसे पोस्ट करने के लिए खेद भी व्यक्त किया। इंदौर जिले की राऊ विधानसभा सीट के विधायक जीतू पटवारी ने नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा नीत सरकार पर निशाना साधने के लिए ट्वीट किया, पुत्र के चक्कर में पांच पुत्री पैदा हो गई - नोटबंदी, जीएसटी, महंगाई, बेरोजगारी और मंदी। परंतु अभी तक विकास पैदा नहीं हुआ।

इस ट्वीट पर भाजपा नेताओं एवं कार्यकर्ताओं सहित कई सोशल मीडिया यूजर्स ने आपत्ति जताते हुए तीखी प्रतिक्रिया दी और पटवारी को औरत जाति से नफरत करने वाला व्यक्ति बताया। पटवारी के इस ट्वीट को टैग करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्वीट किया, ‘‘पुत्रियां मां दुर्गा का रूप होती हैं .. और पुत्र के चक्कर में कांग्रेस की क्या हाल हुई है कि आज पार्टी गयी तेल लेने वाली अवस्था है। फिर भी आप को पुत्र ही चाहिए ..पुत्री नहीं?’’ पटवारी के इस ट्वीट को टैग करते हुए संबित पात्रा ने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा को फिर दूसरा ट्वीट किया, कृपया एक निर्वाचित जनप्रतिनिधि के इस नारी द्वेषी ट्वीट पर जिसमें बेटियों को अवांछित एवं अत्यधिक गलत तरीके से निरूपित किया गया है, उस पर ध्यान दें। उसे बिना दंड दिये हुए नहीं छोड़ा जाना चाहिए। पात्रा के ट्वीट का जवाब देते हुए रेखा ने पटवारी के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। रेखा ने ट्वीट किया, खेद की बात है कि इस प्रकार की मानसिकता वाले ये लोग खुद को नेता कहते हैं। मुझे आश्चर्य है कि वे अपने अनुयायियों को किस प्रकार की शिक्षा दे रहे होंगे। निश्चित रूप से उन्हें इस पर स्पष्टीकरण देने को कहा जाएगा। हालांकि, भाजपा नेताओं एवं सोशल मीडिया पर अपने ट्वीट पर आपत्ति उठाये जाने के बाद पटवारी ने फिर ट्वीट कर कहा कि बेटियां देवीतुल्य होती हैं। पटवारी ने ट्विटर पर लिखा, जहां तक बात बेटियों की है तो वो देवीतुल्य हैं। विकास की अपेक्षा के साथ मैंने एक ट्वीट किया है जिसे बीजेपी अपनी कमज़ोरियों को छिपाने के लिये उपयोग कर रही है। मैं अब भी कह रहा हूं कि “विकास” का पूरे देश को इंतजार है। 

इसे भी पढ़ें: सीएम शिवराज सिंह के निशाने पर आए जीतू पटवारी, ट्वीट पर शुरू हुई सियासत

वहीं, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, आज एक तरफ पूरा देश रानी दुर्गावती के बलिदान को याद कर रहा है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस बेटियों को अपमानित कर रही है। क्या कांग्रेस की इसी विकृत मानसिकता की बलि नैना साहनी, सरला मिश्रा, प्रीति मिश्रा जैसी अनेक बेटियां चढ़ा दी गईं? धिक्कार है कांग्रेस की ऐसी निकृष्टम विचारधारा पर। कांग्रेस के एक घटिया नेता ने कांग्रेस की विकृत मानसिकता को अपने ट्वीट में प्रदर्शित किया है। चौहान ने कहा, क्या बेटियों का पैदा होना अपराध है? क्या बेटियों को अपमानित करने का काम सोनिया गांधी ने इस नेता को दिया है? क्या बेटियों को ऐसा अपमान होता रहेगा? (कांग्रेस अध्यक्ष) मैडम सोनिया गांधी आपको जवाब देना होगा। अपने इस विवादित ट्वीट पर भाजपा एवं सोशल मीडिया सहित अनेकों लोगों द्वारा आपत्ति उठाये जाने के बाद पटवारी ने देर रात अपने इस ट्वीट को हटा दिया और तीसरा ट्वीट किया, मोदी जी ने नोटबंदी, जीएसटी, महंगाई, बेरोज़गारी और मंदी से देश की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ दी..! जनता यह सब केवल विकास की उम्मीद में सहन करती रही। उपरोक्त आशय के साथ किये गये मेरे ट्वीट से यदि किसी की भावनायें आहत हुई हैं तो मैं खेद व्यक्त करता हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।