सीएम शिवराज सिंह के निशाने पर आए जीतू पटवारी, ट्वीट पर शुरू हुई सियासत

सीएम शिवराज सिंह के निशाने पर आए जीतू पटवारी,  ट्वीट पर शुरू हुई सियासत

कांग्रेस नेता जीतू पटवारी के ट्वीट को लेकर भोपाल में भारतीय जनता पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं ने उनका पुतला दहन किया। बीजेपी की महिला कार्यकर्ताओं को कहना है कि कांग्रेस नेता जीतू पटवारी की महिलाओं के प्रति विकृत मानसिकता है। जिसके चलते ही उन्होनें ऐसा ट्वीट किया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में ट्वीट को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व मंत्री और प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी के ट्वीट को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उन पर निशाना साधा है। दरआसल जीतू पटवारी ने मोदी की सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया था कि- पुत्र के चक्कर में पाँच पुत्रियाँ पैदा हो गई! 1.नोटबंदी, 2.जीएसटी, 3.महंगाई, 4.बेरोजगारी, 5. मंदी! परंतु अभी तक विकास पैदा नहीं हुआ! इसी ट्वीट को लेकर मध्य प्रदेश में राजनीति गरमा गई। जहाँ अभी तक जीतू पटवारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते आ रहे थे, वही अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जीतू पटवारी को अपने निशाने पर ले लिया है। 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस के एक घटिया नेता ने कांग्रेस की विकृत मानसिकता को अपने ट्वीट में प्रदर्शित किया है। आज पूरा देश जब वीरांगना रानी दुर्गावती का बलिदान दिवस मना रहा हैं, यह ट्वीट करना कि 1 पुत्र के चक्कर में 5 पुत्रियां पैदा हो गई। क्या बेटियों का पैदा होना अपराध है। क्या बेटियों को अपमानित करने का काम सोनिया गांधी ने इस नेता को दिया है। क्या बेटियों को ऐसा अपमान होता रहेगा। मैडम सोनिया गांधी आपको जवाब देना होगा।

इसे भी पढ़ें: शीघ्र ही मंत्रिमंडल का विस्तार होगा, केंद्रीय नेतृव से होनी है बात: शिवराज

उन्होने अपने बयान में कहा कि क्या यही कांग्रेस की विकृत मानसिकता है, जिसने नैना साहनी को टुकड़े-टुकड़े कर तंदूर में जला दिया। क्या यही कांग्रेस की विकृत मानसिकता है, जिसने सरला मिश्रा को जिंदा जला कर खत्म कर दिया। क्या यही कांग्रेस की घटिया मानसिकता है, जो प्रीति श्रीवास्तव जैसी बेटी को गाड़ी में बांधकर उसकी हत्या करा देती है। कब तक कांग्रेस बेटियों को अपमानित करती रहेगी। वही शिवराज सिंह चौहान ने जीतू पटवारी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह नेता वही है, जो मैडम सोनिया गांधी आपके बेटे को मोटरसाइकिल पर घुमाता है। यह वही नेता है, जो कहता है पार्टी गई तेल लेने। अब आपकी पार्टी तेल लेने जाए इससे हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन बेटियों को अपमानित करने का हक आपको किसने दिया। इस घटिया कृत्य के लिए इस नेता को पार्टी से बाहर करो और मैडम सोनिया गांधी देश से माफी मांगो।

कांग्रेस नेता जीतू पटवारी के ट्वीट को लेकर भोपाल में भारतीय जनता पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं ने उनका पुतला दहन किया। बीजेपी की महिला कार्यकर्ताओं को कहना है कि कांग्रेस नेता जीतू पटवारी की महिलाओं के प्रति विकृत मानसिकता है। जिसके चलते ही उन्होनें ऐसा ट्वीट किया है। जबकि पूर्व मंत्री रहे जीतू पटवारी ने मामला बिगड़ता देख एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होनें लिखा कि- जहाँ तक बात बेटियों की है तो वे देवीतुल्य है। विकास की अपेक्षा के साथ मैनें एक ट्वीट किया है जिसे बीजेपी अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए उपयोग कर रही है। मैं अब भी कह रहा हूँ कि विकास का पूरे देश को इंतजार है।

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल मूल्यवृद्धि पर दिग्विजय ने कहा- मोदी के लिए ‘‘पैसा कमाने का अवसर है’’ कोरोना वायरस आपदा

वही जीतू पटवारी के इस ट्वीट पर लोग भी तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे है। जहाँ एक ट्वीटर यूजर ने लिखा है कि सरकार की आलोचना करना आपका अधिकार है परंतु आपके द्वारा दिया गया उदाहरण बहुत ही गलत संदेश देता ही कि बेटियाँ हमारे लिए अप्रिय है। आपसे विनम्र निवेदन है कि आप इस ट्वीट को डिलीट करके सही शब्दावली का प्रयोग करके सरकार की आलोचना करें। तो वही दूसरी ओर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से जीतू पटवारी को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की बात कही है। 

बहरहाल अभी तक कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी लगातार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ट्वीट कर निशाना बनाए हुए थे। तो वही बुधवार को मोदी सरकार पर कटाक्ष करने वाले किए गए ट्वीट के बाद अब जीतू पटवारी खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का निशाना बन गए है। जिसको लेकर मध्य प्रदेश की राजनीतिक में बेटियों के नाम पर सियासत शुरू हो गई है।   





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।