कांग्रेस ने सुनील जाखड़ को किया सस्पेंड, वरिष्ठ नेता ने कहा- आज, सर कलम होंगे उनके, जिनमें अभी ज़मीर बाकी है

कांग्रेस ने सुनील जाखड़ को किया सस्पेंड, वरिष्ठ नेता ने कहा- आज, सर कलम होंगे उनके, जिनमें अभी ज़मीर बाकी है

सोनिया गांधी ने सुनील जाखड़ और केवी थॉमस को लेकर अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति का गठन किया था। इसी समिति ने सुनील जाखड़ के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी की अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति की अनुशंसा पर मुहर भी लगा दी है।

पांच राज्यों में मिली चुनावी हार के बाद कांग्रेस लगातार सक्रिय नजर आ रही है। इन सबके बीच अनुशासनहीनता को लेकर पार्टी ने दो वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ को कांग्रेस ने सभी पदों से हटाने का फैसला लिया है। इसके साथ ही उन्हें 2 साल के लिए निलंबित भी कर दिया गया है। दरअसल, सोनिया गांधी ने सुनील जाखड़ और केवी थॉमस को लेकर अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति का गठन किया था। इसी समिति ने सुनील जाखड़ के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी की अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति की अनुशंसा पर मुहर भी लगा दी है।

इसे भी पढ़ें: हार्दिक के मन में आखिर क्या है ? इंटरव्यू का स्क्रीनशॉट शेयर कर आलाकमान को दिया अल्टीमेटम ! बोले- मैं अभी कांग्रेस में हूं

वही समिति की बैठक से पहले ही सुनील जाखड़ ने पार्टी के ऊपर कटाक्ष करते हुए एक ट्वीट किया था। उन्होंने कहा था ‘‘आज, सर कलम होंगे उनके, जिनमें अभी ज़मीर बाकी है !’’ सुनील जाखड़ के अलावा केवी थॉमस को लेकर भी कांग्रेस ने बड़ा निर्णय लिया है। केवी थॉमस को प्रदेश कांग्रेस की राजनीतिक मामलों की समिति एवं कार्यकारी समिति से हटाने का फैसला लिया गया है। सूत्रों ने बताया कि समिति ने मेघालय के पांच विधायकों को निलंबित करने का फैसला हुआ है। इन विधायकों ने पार्टी के रुख के खिलाफ जाकर प्रदेश सरकार का समर्थन करने का फैसला किया था। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार, पार्टी के वरिष्ठ नेता एके एंटनी की अध्यक्षता वाली इस समिति की मंगलवार को बैठक हुई जिसमें इन नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की गई थी।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामला: अनुराग ठाकुर का तंज- क्या सोनिया, प्रियंका भी राहुल की तरह छुट्टी पर हैं

गौरतलब है कि कांग्रेस की अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति ने पार्टी के दो वरिष्ठ नेताओं सुनील जाखड़ और केवी थॉमस को, अनुशासनहीनता के आरोपों को लेकर गत 11 अप्रैल को ‘कारण बताओ’ नोटिस जारी कर एक सप्ताह के भीतर जवाब मांगा था। थॉमस का जवाब मिल गया है, लेकिन जाखड़ की तरफ से जवाब नहीं आया। जाखड़ ने गत मंगलवार को कहा था कि उन्होंने पार्टी की अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति की ओर से दिए गए ‘कारण बताओ’ नोटिस का जवाब नहीं दिया है और समिति को जो फैसला करना है, वह कर ले। सुनील जाखड़ पर विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी को नुकसान पहुंचाने वाले बयान देने तथा पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के खिलाफ ‘आपत्तिजनक टिप्पणी’ करने का आरोप है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...