उच्च शिक्षा मंत्री को कांग्रेस की चेतावनी, मांफी नहीं मांगने पर इंदौर में नहीं घुसने देंगे

Mohan yadav poster in indore
सुयश भट्ट । Jan 29, 2022 2:30PM
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने देवी विश्वविद्यालय पर लगाए गए पोस्टरों में मोहन यादव से मांग की कि वे देश के राष्ट्रपिता और पूर्व स्वर्गीय प्रधानमंत्री पर की गई टिप्पणियों को लेकर माफी मांगे माफी नहीं मांगने की स्थिति में कांग्रेस ने चेतावनी दी कि उन्हें शहर में घुसने नहीं दिया जाएगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के द्वारा फेसबुक पर विवादित टिप्पणी को लेकर कांग्रेस अब आक्रमक हो गई  है। इंदौर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मोहन यादव को शहर में नहीं घुसने देने की चेतावनी दी है।

दरअसल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने इंदौर में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के बाहर पोस्टर लगाकर मोहन यादव के द्वारा लिखी गई टिप्पणी पर उनसे माफी मांगने की मांग की है। और ये भी लिखा है कि जब तक माफी नहीं मांग लेते है तब तक इंदौर में घुस नहीं सकेंगे।

इसे भी पढ़ें:बीजेपी के नेता ने लगाए केपी यादव पर गंभीर आरोप, शिकायत करने पहुंचे पार्टी दफ्तर 

26 जनवरी पर मंत्री मोहन यादव के द्वारा किए गए ट्वीट के बाद प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। लगातार मोहन यादव के ट्वीट का विरोध कर रही कांग्रेस ने अब इंदौर में चेतावनी जारी कर मोहन यादव को शहर में नहीं घुसने देने की बात कही है।

जिसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने देवी विश्वविद्यालय पर लगाए गए पोस्टरों में मोहन यादव से मांग की कि वे देश के राष्ट्रपिता और पूर्व स्वर्गीय प्रधानमंत्री पर की गई टिप्पणियों को लेकर माफी मांगे माफी नहीं मांगने की स्थिति में कांग्रेस ने चेतावनी दी कि उन्हें शहर में घुसने नहीं दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें:रीवा में बनारस हाईवे को बम से उड़ाने की कोशिश, यूपी चुनाव से पहले फैलाई जा रही है दहशत 

वहीं कांग्रेस के शहर प्रवक्ता विवेक खंडेलवाल के मुताबिक बीजेपी के मंत्रियों की टीआरपी में आने के लिए होड़ मची हुई है। इसीलिए वे इस तरह के ट्वीट कर रहे हैं। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि प्रदेश के शिक्षा मंत्री जो कि कई छात्रों के खुद आदर्श होते हैं। और वह इस तरह के ट्वीट कर देश के राष्ट्रपिता का अपमान कर रहे हैं। मुख्यमंत्री को उन्हें तत्काल मंत्री पद से बर्खास्त करना चाहिए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़