अपने आंदोलन से पीछे नहीं हटेगी कांग्रेस, अजय माकन बोले- हम किसी दबाव में नहीं आएंगे

ajay maken
ANI
अंकित सिंह । Aug 03, 2022 6:57PM
कांग्रेस का दावा है कि उसके मुख्यालय को सोनिया गांधी के घर को और राहुल गांधी के घर को पूरी तरीके से घेर लिया गया है। कांग्रेस के अजय माकन ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 5 तारीख को कांग्रेस पूरे देश में महंगाई और बेरोजगारी को लेकर प्रदर्शन करने वाली थी।

प्रवर्तन निदेशालय ने आज नेशनल हेराल्ड कार्यालय में यंग इंडिया के दफ्तर को सील कर दिया है। इसके साथ ही कांग्रेस मुख्यालय सोनिया गांधी तथा राहुल गांधी के घरों के आसपास सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त भी कर दिए गए हैं। अब ईडी के एक्शन पर कांग्रेस ने सरकार पर हमला किया है। कांग्रेस का दावा है कि उसके मुख्यालय को सोनिया गांधी के घर को और राहुल गांधी के घर को पूरी तरीके से घेर लिया गया है। कांग्रेस के अजय माकन ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 5 तारीख को कांग्रेस पूरे देश में महंगाई और बेरोजगारी को लेकर प्रदर्शन करने वाली थी। सरकार इस प्रदर्शन से डर गई है और यही कारण है कि आज डीसीपी की ओर से हमें यह प्रदर्शन रद्द करने के लिए कहा गया है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि कांग्रेस अपना आंदोलन जारी रखेगी। सरकार चाहे कुछ भी कर ले, हम दबाव में नहीं आएंगे। हम प्रधानमंत्री आवास के बाहर प्रदर्शन करेंगे।

इसे भी पढ़ें: अपने आंदोलन से पीछे नहीं हटेगी कांग्रेस, अजय माकन बोले- हम किसी दबाव में नहीं आएंगे

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि आज जो हो रहा है, वह प्रतिशोध और धमकी की राजनीति है। परंतु एक कहावत है, विनाशकाले विपरीत बुद्धि। इस समय महंगाई, बेरोजगारी, जीएसटी का विनाशकाल है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार 2 हफ्ते तक संसद में महंगाई पर चर्चा से भागती रही। अब 5 अगस्त को हमारे प्रदर्शन को रोकने के लिए गृहमंत्री और दिल्ली पुलिस आज से ही शुरुआत कर चुके हैं। रमेश ने कहा कि जो धमकी देते हैं, जो प्रतिशोध की राजनीति करते हैं; जो भय का वातावरण फैलाते हैं, वही डरते हैं। डरने वाले हम नहीं हैं। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र हैं और वहां ‘सीज करने की मानसिकता’ होना दुखद है। इस पूरी कवायद का मकसद एक तरफ अपमानित करना और धमकाना और दूसरी तरफ महत्वपूर्ण मुद्दों से ध्यान भटकाना और बरगलाना है। उन्होंने कहा, ‘‘आज सरकार ने डर का माहौल पैदा किया है। पूरा देश देख रहा है कि ईडी का इस्तेमाल देश की सबसे पुरानी पार्टी के नेतृत्व के खिलाफ किस तरफ कर रहे हैं...यह एक भयभीत सरकार है।’’

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में ममता कैबिनेट का हुआ विस्तार, 9 नए मंत्रियों ने ली शपथ, बाबुल सुप्रियो भी शामिल

वहीं, अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस मुख्यालय एवं 10 जनपथ को पुलिस छावनी बनाने की आज की कार्रवाई अघोषित आपातकाल है। नेशनल हेराल्ड (यंग इंडिया) के दफ्तर को जबरन सील कर दिया गया। एनडीए की इस तानाशाही सरकार के खिलाफ यदि कांग्रेसजनों के साथ आम जनता खड़ी नहीं हुई तो इसका खामियाजा पूरे देश को भुगतना पड़ेगा। कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर लिखा गया है कि सत्य की आवाज़ नहीं डरेगी पुलिसिया पहरों से। गांधी के अनुयायी लड़ के जीतेंगे इन अंधेरों से। नेशनल हेराल्ड का ऑफिस सील करना, कांग्रेस मुख्यालय को पुलिस पहरे में कैद करना तानाशाह की डर और बौखलाहट दोनों दिखाता है। पर महंगाई और बेरोज़गारी के सवाल तो फिर भी पूछे जाएँगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़