पश्चिम बंगाल में कांग्रेस का अड़ियल रुख अपनाना दुर्भाग्यपूर्ण: येचुरी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 3 2019 4:05PM
पश्चिम बंगाल में कांग्रेस का अड़ियल रुख अपनाना दुर्भाग्यपूर्ण: येचुरी
Image Source: Google

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस से गठबंधन नहीं हो पाने के बाद भी यह धारणा स्पष्ट है कि सिर्फ वाम दल ही भाजपा और तृणमूल कांग्रेस से लड़ने में सक्षम हैं।

नयी दिल्ली। वामदलों ने लोकसभा चुनाव में विभिन्न राज्यों में विपक्षी दलों के गठबंधन की पहल कारगर नहीं हो पाने के लिये कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है। भाकपा के महासचिव एस सुधाकर रेड्डी के बाद अब माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने भी कहा है कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के अड़ियल रुख के कारण गठबंधन नहीं हो पाया और यह दुर्भाग्यपूर्ण है। येचुरी ने बताया कि पश्चिम बंगाल में जो हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। इसके बावजूद वहां के लोगों को हमारी तरफ से भाजपा और तृणमूल कांग्रेस को ही हराने का संदेश दिया जा रहा है।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: मोदी के खिलाफ देश के ‘मूड’ को समझ कर ही धुर विरोधी भी एक हुये: येचुरी

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस से गठबंधन नहीं हो पाने के बाद भी यह धारणा स्पष्ट है कि सिर्फ वाम दल ही भाजपा और तृणमूल कांग्रेस से लड़ने में सक्षम हैं। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल और बिहार में कांग्रेस से बात नहीं बन पाने के कारण वामदल अलग चुनाव लड़ रहे हैं। रेड्डी विपक्ष की उम्मीद के मुताबिक एकजुटता नहीं हो पाने के लिये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर पहले हीसवाल उठा चुके हैं। पश्चिम बंगाल और बिहार सहित अन्य राज्यों में विपक्षी दलों का गठबंधन नहीं हो पाने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष की नेतृत्व क्षमता पर उठ रहे सवालों को लेकर येचुरी ने कहा, ‘राहुल गांधी अपनी पार्टी के हितों को देखते हुये फैसले कर रहे हैं। हमारी सभी दलों से अपील है कि मूल उद्देश्य भाजपा को हराने का होना चाहिये।’

इसे भी पढ़ें: राफेल मामले में बोले सीताराम येचुरी, सरकार बात करने से डरती है



उन्होंने कहा कि जहां तक पश्चिम बंगाल का मामला है, हमने अपनी तरफ से पूरी संजीदगी दिखाई लेकिन कांग्रेस ने इसे स्वीकार नहीं किया। हमारी प्राथमिकतायें स्पष्ट हैं और पश्चिम बंगाल के लोग इससे वाकिफ हैं। कांग्रेस की क्या प्राथमिकता है, यह कांग्रेस को तय करना है। येचुरी ने कहा कि बेशक... गठबंधन प्रक्रिया को कांग्रेस ने ठीक से नहीं लिया। ऐसा क्यों हुआ, इसका जवाब कांग्रेस ही दे पायेगी। भाजपा विरोधी मतों को अधिकतम संख्या में अपने पक्ष में करना हमारी प्राथमिकता है, कांग्रेस को अपनी प्राथमिकता तय करना है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video