पटना वाले खान सर का असली नाम बना ‘रहस्य’, धर्म पर भी उठ रहे सवाल, किस वीडियो पर हुआ बवाल?

पटना वाले खान सर का असली नाम बना ‘रहस्य’,  धर्म पर भी उठ रहे सवाल, किस वीडियो पर हुआ बवाल?

खान सर के असली नाम को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। सोशल मीडिया पर खान के पीछे की सच्चाई जानने के लिए लोग जुट गए कि आखिरकार क्या सच है? कुछ लोग उनका असली नाम अमित सिंह बता रहे हैं।

जनरल नॉलिज के विषयों को देसी अंदाज में आसान बनाकर पढ़ाने में महारथ हासिल करने वाले पटना के खान सर जीएश रिसर्च सेंटर के संचालक अपने असली नाम को लेकर टीवी और सोशल मीडिया पर पिछले कुछ दिनों से सुर्खियों बटोर रहे हैं। सोशल मीडियी पर एक बड़े वर्ग की तरफ से सवाल खड़े किए जा रहे हैं। पटना में खान सर के खिलाफ कट्टरपंथियों ने अपना मोर्चा खोल दिया। खान सर के असली नाम को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। सोशल मीडिया पर खान के पीछे की सच्चाई जानने के लिए लोग जुट गए कि आखिरकार क्या सच है? कुछ लोग उनका असली नाम अमित सिंह बता रहे हैं। ऐसे में आइए जानते हैं कौन हैं खान सर और क्या है पूरा मामला? 

कौन हैं खान सर?

खान सर पटना के कोचिंग टीचर हैं जो पूरे देश में चर्चित हैं। खान सर अपना धर्म हिन्दुस्तानी बताते हैं। मूल रूप से यूपी के गोरखपुर के बताए जाते हैं। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से एमएससी की पढ़ाई की है। सरकारी प्रतियोगी परिक्षाओं के लिए कोचिंग देते हैं। खान सर अपने पढ़ाने के देशी अंदाज को लेकर बेहद मशहूर हैं। 'खान सर ऑफिसियल' नाम से कोचिंग एप भी है। एप के जरिये लाखों छात्रों को कोचिंग दिया करते हैं। 'खान जीएस रिसर्च' सेंटर नाम से यूट्यूब चैनल चलाते हैं। खान सर के यूट्यूब चैनल के 93 लाख सब्सक्राइबर हैं। खान सर यूट्यूब पर कई विषयों पर वीडियो पोस्ट करते हैं और उनके वीडियोज को लाखों हिट्स मिलते हैं। '

इसे भी पढ़ें: बिहार सीएम नीतीश कुमार ने अधिकारियों से कहा- बंगाल से आ रहे सभी यात्रियों की जांच कराएं

क्या है पूरा विवाद?

पाकिस्तान और फ्रांस के मुद्दे पर 24 अप्रैल को एक वीडिया खान सर की तरफ से यूट्यूब पर अपलोड किया गया था। वीडियो में पाकिस्तान के एक प्रदर्शनकारी बच्चे पर सवाल उठाया गया था। दरअसल खान सर अपने वीडियो में पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को देश से वापस भेजने के लिए विरोध प्रदर्शन के बारे में बता रहे थे जिसमें बच्चे भी हिस्सा ले रहे थे। वीडियो में खान सर ने कहा- “ई रैली में ये बेचारा बचवा है। इसको क्या पता कि राजदूत क्या चीज होता है। कोई पता नहीं है। लेकिन फ्रांस को राजदूत को बाहर ले जाएंगे। इनको कुछ पता नहीं है। बाबू लोग, तुम लोग पढ़ लो। अब्बा के कहने पर मत आओ। बच्चे पढ़ लो नहीं तो पंचर लगाना पड़ेगा। नहीं पढ़ोगे तो चौराहे पर मीट काटना पड़ेगा। वीडियो में खान सर ने कहा 18-19 बच्चे पैदा होंगे तो किस काम में आएंगे। वीडियो वायरल होने के बाद खान सर को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाने लगा। खान सर की बातों को एक धर्म विशेष के खिलाफ टिप्पणी माना गया। सोशल मीडिया पर कहा जाने लगा कि खान सर का असली नाम अमित सिंह है। 

क्या है असली नाम?

खान सर का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें वो अपने नाम के बारे में बता रहे हैं। उन्होंने कहा था कि मेरा नाम खान सर नहीं है। हम जब पढ़ाने गए थे तब टीचर नहीं थे। एक ऐसी कोचिंग थी जहां स्टूडेंट थे, टीचर नहीं थे। मुझे वहां क्लास लेने के लिए बुलाया गया। पहले दिन छह लड़का था, अगले दिन 40-50 हो गया। उसके अगले दिन डेढ़ सौ हो गया। एक हफ्ता के अंदर अजीब हो गया क्लास रूम। उन्हें लगा बहुत बढ़िया टीचर है बहुत ज्यादा लड़का आ जा रहा है। अब उन सब को डर लग गया कि ये मास्टर अगर यहां से हट गया तो सभी लड़का इसके साथ चला जाएगा। तो उन्होंने कहा कि न आपको अपना नाम बताना है और न अपना मोबाइल नंबर बताना है। गए वहां पर न अपना नाम बताए न मोबाइल नंबर देते थे। पूछता था सर आपका नाम क्या है? लिख देते थे जीएस टीचर। उन लोगों की मजबूरी हो गई क्योंकि बैच देना है तो नाम बताना पड़ेगा। उन लोगों ने एक जुगाड़ निकाला दिया खान सर। तब से हम खान सर हो गए। जबकि ऐसे लोग हमको अमित सिंह कहकर बुलाते हैं। हम इसलिए आपको कभी-कभी कहते हैं कि आप हमें समझ सको अभी इतनी आपमें समझ नहीं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना काल में भी जारी है बिहार में राजनीतिक खेल, मांझी के बयान ने बढ़ाई भाजपा की बेचैनी

हालांकि खान सर ने अभी तक ये साफ नहीं किया है कि उनका असली नाम क्या है।  मुझे क्या कहा जाता है, इसके ऊपर मैं बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देता. कुछ लोग मुझे कई नामों से बुलाते हैं. जिसमें से एक अमित भी है। खान सर बस एक टाइटल है।  मेरा मूल नाम नहीं है. मैंने अपना पूरा नाम कभी नहीं बताया। टाइम आएगा तो सबको पता चल ही जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।