उपचुनाव से पहले मुख्यमंत्री निवास पर हुई कोर ग्रुप की बैठक, तमान बड़े नेता रहे मौजूद

उपचुनाव से पहले मुख्यमंत्री निवास पर हुई कोर ग्रुप की बैठक, तमान बड़े नेता रहे मौजूद

प्रदेश कार्यकािरणी गठित होने के बाद अब जिलों कें अध्यक्षों की नई नियुक्तियों को लेकर पेंच हैं। यही वजह है कि करीब 20 जिलों में अध्यक्ष के नाम अब तक तय नहीं हो पाए थे। ऐसा बताया जाता है कि बैठक में इस पर चर्चा हुई है।

भोपाल। भोपाल में गुरुवार को मुख्यमंत्री निवास पर बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक सम्पन्न हुई है। इस बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिव प्रकाश मौजूद रहे। इनके साथ प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत , कैलाश विजयवर्गीय और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें:किसान आंदोलन को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री, कहा - जो आंदोलन पर बैठे है, वे बता दे कि खत्म कब करेंगे 

इस बैठक में उपचुनाव को लेकर लंबी चर्चा हुई। हाल ही में प्रदेश प्रभारी मुरलीधर ने रैगांव और पृथ्वीपुर में बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं की बैठक ली थी। यह पहला मौका है, जब प्रदेश प्रभारी को बूथ लेवल पर बैठक लेना पड़ रही है। दरअसल 1 लोकसभा और 3 विधानसभा सीटों पर नंवबर-दिसंबर में चुनाव संभावित है। इसके हिसाब से रोडमैप तैयार किया गया है।

जानकारी के मुताबिक ओबीसी और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के नेताओं की सत्ता और संगठन में सक्रियता बढ़ाने पर चर्चा की गई। यही वजह है कि आदिवासियों को साधने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को जबलपुर में आना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें:बीजेपी के विधायक रामेश्वर शर्मा ने दिग्विजय सिंह को दी सलाह, कहा- अपनी वाणी का करे सही इस्तेमाल 

वहीं प्रदेश कार्यकािरणी गठित होने के बाद अब जिलों कें अध्यक्षों की नई नियुक्तियों को लेकर पेंच हैं। यही वजह है कि करीब 20 जिलों में अध्यक्ष के नाम अब तक तय नहीं हो पाए थे। ऐसा बताया जाता है कि बैठक में इस पर चर्चा हुई है।

ऐसा बताया जा रहा है कि निगम-मंडलों में राजनीतिक नियुक्तियां एक लंबे समय से रुकी हुई है। और इस बैठक में नाम फाइनल किए गए हैं। जिसकी घोषणा केंद्रीय नेतृत्व की स्वीकृति मिलने के बाद होगी। दरअसल, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों को निगम-मंडलों में एडजस्ट करने को लेकर अब तक सहमति नहीं बन पा रही थी। ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि इमरती देवी, ऐदल सिंह कंषाना, मुन्नालाल गोयल और गिर्राज दंडोतिया का पुनर्वास हो जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।