कोरोना संकट ने भारत में नवाचार और उद्यम को प्रेरित किया: हर्षवर्धन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 24, 2020   09:12
कोरोना संकट ने भारत में नवाचार और उद्यम को प्रेरित किया: हर्षवर्धन

इंडिया इंटरनेशनल विज्ञान महोत्सव के दौरान विदेशों के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रियों एवं राजनयिकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुये हर्षवर्धन ने कहा कि स्टार्टअप कंपनियों द्वारा विकसित 51 नवीन उत्पादों को बाजार की जरुरतों के हिसाब से जल्दी तैयार करने और उन्हें बाजार में उतारने के लिए आर्थिक सहायता दी जा रही है।

नयी दिल्ली। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी संकट ने भारत में नवाचार एवं उद्यम को बढ़ावा दिया है और प्रासंगिक प्रौद्योगिकी समाधानों की पहचान और उसका समर्थन के लिए पूरे स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र की व्यापक मैपिंग की गई है। इंडिया इंटरनेशनल विज्ञान महोत्सव के दौरान विदेशों के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रियों एवं राजनयिकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुये हर्षवर्धन ने कहा कि स्टार्टअप कंपनियों द्वारा विकसित 51 नवीन उत्पादों को बाजार की जरुरतों के हिसाब से जल्दी तैयार करने और उन्हें बाजार में उतारने के लिए आर्थिक सहायता दी जा रही है।

मंत्री ने कहा कि प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड के माध्यम से ऐसे उद्योगों का समर्थन करने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है जिनके पास व्यवसायीकरण या स्केल-अप करने के लिए एक उपयुक्त और परखा हुआ उत्पाद या प्रौद्योगिकी है। उन्होंने कहा, ‘‘संकट ने भारत में नवाचार और उद्यम को प्रेरित किया है। पूरे स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र की व्यापक मैपिंग की गई है ताकि स्केल-अप के लिए तैयार प्रासंगिक प्रौद्योगिकी समाधानों की पहचान और उनका समर्थन किया जा सके।’’ इस कार्यक्रम में अफगानिस्तान, कम्बोडिया, म्यामां, फिलिपिन्स, श्रीलंका, एवं उज्बेकिस्तान के मंत्रियों एवं अधिकारियों ने वर्चुअल तरीके से हिस्सा लिया। 

इसे भी पढ़ें: भारत ने कोरोना के खतरे से निपटने के लिए वैज्ञानिक साक्ष्य-आधारित दृष्टिकोण को अपनाया: हर्षवर्धन

इस बीच इंडिया इंटरनेशनल विज्ञान महोत्सव (आईआईएसएफ) में आज ग्लोबल इंडियन साइंटिस्ट्स एवं टेक्नोक्रेट्स से लेकर महिला वैज्ञानिक एवं उद्यमी कॉनक्लेव तक कई कार्यक्रम आयोजित किये गये।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को चार दिवसीय आईआईएसएफ का उद्घाटन किया था और इसका वर्चुअल तरीके से इसका आयोजन किया जा रहा है। आज के कार्यक्रम में विभिन्न देशों के वैज्ञानिकों, डॉक्टरों, अध्यापकों, अनुसंधानकर्ताओं, इंजीनियरों एवं छात्रों समेत अन्य ने हिस्सा लिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।