देश की अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजर रही सरकार ऐसे समय में मना रही 100 दिनों का जश्न: भाकपा

country-economy-is-going-through-a-recession-the-government-is-celebrating-100-days-at-such-a-time-cpi
पार्टी ने इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया कि देश में जनसामान्य जब आर्थिक मंदी के कारण परेशानियों का सामना कर रहा है तब सरकार सौ दिन की कामयाबियों का जश्न मना रही है। भाकपा नेकहा कि इस सब के बीच कृषि संकट का मुद्दा भी अछूता रह गया है।

नयी दिल्ली। भाकपा ने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के शुरुआती सौ दिन पूरे होने का जश्न मनाये जाने पर आश्चर्य व्यक्त करते हुये कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजर रही है और सरकार ऐसे समय जश्न मना रही है। भाकपा ने सोमवार को एक बयान जारी कर सरकार से पूछा कि सत्तापक्ष अपनी सफलताओं की बात कैसे कर सकता है कि जम्मू कश्मीर के लोग ‘अप्रत्याशित संकट’ का सामना कर रहे हों।

इसे भी पढ़ें: MODI100: GDP आंकड़ों को लेकर विपक्षी ही नहीं साथी दल भी घेर रहे हैं सरकार को

उल्लेखनीय है कि सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को जम्मू कश्मीर के बारे में मोदी सरकार के फैसले को सबसे बड़ी सफलता बताते हुये देश में आर्थिक मंदी के सवाल को यह कह करनकार दिया था कि अर्थव्यवस्था के सभी मूलभूत मानक दुरुस्त हैं और आर्थिक क्षेत्र में हायतौबा की स्थिति नहीं है। पार्टी ने कहा कि देश में बेरोजगारी बढ़ रही है, असहिष्णुता में इजाफा हुआ है, लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन हो रहा है, आरएसएस के विभाजनकारी एजेंडे को आगे बढ़ाया जा रहा है और आर्थिक मंदी को नजरंदाज किया जाना ही आरएसएस की अगुवाई वाली भाजपा सरकार की 100 दिन के मुख्य काम हैं।

इसे भी पढ़ें: हुड्डा और मैं दोनों अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे, हरियाणा में ‘मोदी फैक्टर’ नहीं चलेगा: शैलजा

पार्टी ने इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया कि देश में जनसामान्य जब आर्थिक मंदी के कारण परेशानियों का सामना कर रहा है तब सरकार सौ दिन की कामयाबियों का जश्न मना रही है। भाकपा नेकहा कि इस सब के बीच कृषि संकट का मुद्दा भी अछूता रह गया है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़