दिल्ली में ‘ब्रेक मानसून’ के एक और चरण में प्रवेश करने की संभावना: आईएमडी

IMD
राष्ट्रीय राजधानी और उत्तर पश्चिम भारत के इसके आस-पास के इलाके ‘ब्रेक मानसून’के एक और चरण में प्रवेश कर सकते हैं। ऐसा इस मौसम में तीसरी बार होने जा रहा है क्योंकि मानसून कम दबाव वाला क्षेत्र हिमालय की तलहटी के करीब पहुंच गया है और इसके वहां एक और दिन रहने की संभावना है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी और उत्तर पश्चिम भारत के इसके आस-पास के इलाके ‘ब्रेक मानसून’के एक और चरण में प्रवेश कर सकते हैं। ऐसा इस मौसम में तीसरी बार होने जा रहा है क्योंकि मानसून कम दबाव वाला क्षेत्र हिमालय की तलहटी के करीब पहुंच गया है और इसके वहां एक और दिन रहने की संभावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी)ने यह जानकारी दी। आईएमडी ने एक बयान में बताया, ‘‘ मानसून हिमालय की तलहटी के नजदीक है। इसके वहां कल तक यानी 26 अगस्त तक रहने की संभावना है।’’

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के लिए 115 देशों से जल मंगवाया गया, दिल्ली का गैर सरकारी संगठन का बयान

भारत मौसम विज्ञान विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक आर के जेनामणि ने बताया कि क्षेत्र में अभी ‘मानसून कमजोर’ है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर मानसून हिमालय की तलहटी के क़रीब स्थानांतरित होता है और वहां लगातार दो से तीन दिन बना रहता है तो हम उसे ‘ ब्रेक मानसून’ (मानसून क्रम टूटने वाला चरण) कहते हैं। यह बुधवार को भी तलहटी में है और इसके एक और दिन वहां रहने की संभावना है।’’

इसे भी पढ़ें: मुख्य सचिव राम सुभग सिंह ने प्रदेश में स्वर्ण जयंती समारोह तैयारियों की समीक्षा की

आईएमडी ने कहा कि 27 अगस्त को उत्तर-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके 29 अगस्त से पश्चिमी मानसून के कम दबाव वाले क्षेत्र को नीचे खींचने की संभावना है, जिससे दिल्ली समेत उत्तरश्चिमी भारत में महीने के अंत में बारिश हो सकती है। शहर में इस महीने में अब तक सामान्य 210.6 मिमी बारिश की तुलना में 214.5 मिमी बारिश हुई। आम तौर पर राजधानी में इस महीने 247.7 मिमी बारिश होती है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़