सचिन पायलट की मांग, श्रमिकों के लिए देशव्यापी नीति बनाए केंद्र सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   22:48
सचिन पायलट की मांग, श्रमिकों के लिए देशव्यापी नीति बनाए केंद्र सरकार

राज्य के कांग्रेस नेताओं ने यूट्यूब, फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया मंचों के माध्यम से केंद्र सरकार से हर गरीब परिवार को शुरुआत में 10,000 रुपये और अगले छह महीनों तक प्रतिमाह 7,500 रुपये देने के की मांग की।

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बृहस्पतिवार को कहा कि केंद्र सरकार को श्रमिकों के लिए देशव्यापी नीति बनाकर उन्हें आर्थिक सहायता देनी चाहिए। पायलट ने कांग्रेस पार्टी के ऑनलाइन आंदोलन ‘स्पीकअपइंडिया’ के तहत गरीबों को आर्थिक मदद देने की मांग उठाई। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘केंद्र सरकार की गरीब विरोधी नीतियों व लचर कार्यशैली के कारण इस विपदा की घड़ी में गरीब लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेस ने गरीबों के उद्धार के लिए केंद्र के समक्ष मांगे रखी हैं।’’

पायलट ने कहा, ‘‘आज देश करोना वायरस संक्रमण के कारण चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा है। आज गरीब जरूरतमंद परिवारों को आर्थिक मदद की आवश्यकता है। केंद्र सरकार को श्रमिकों के लिए देशव्यापी नीति बनाकर आर्थिक सहायता पहुंचाई जानी चाहिए।’’ पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार इन चुनौतीपूर्ण हालात का सामना करने के लिए नाहीं राज्यों को आवश्यक संसाधन उपलब्ध करवा पाई और नाहीं आने वाले समय के लिए उनके पास कोई रणनीति है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का देशव्यापी ऑनलाईन अभियान 28 मई को: सचिन पायलट

राज्य के कांग्रेस नेताओं ने यूट्यूब, फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया मंचों के माध्यम से केंद्र सरकार से हर गरीब परिवार को शुरुआत में 10,000 रुपये और अगले छह महीनों तक प्रतिमाह 7,500 रुपये देने के की मांग की। यह आंदोलन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के निर्देशों के अनुसार आयोजित किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।