दिल्ली बॉर्डर पर हजारों किसानों का आंदोलन 5वें दिन भी जारी, यातायात प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2020   11:57
  • Like
दिल्ली बॉर्डर पर हजारों किसानों का आंदोलन 5वें दिन भी जारी, यातायात प्रभावित

दिल्ली यातायात पुलिस ने सोमवार सुबह ही लोगों को सिंघु और टिकरी बॉर्डर के बंद रहने की जानकारी देते हुए अन्य मार्ग से जाने को कहा। उसने ट्वीट किया, ‘‘ सिंघु बॉर्डर दोनों ओर से बंद है। कृपया दूसरे मार्ग से जाएं। मुकरबा चौक और जीटीके रोड पर यातायात परिवर्तित किया गया है। भयंकर जाम लगा है।

नयी दिल्ली। केन्द्र के तीन नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन पांचवें दिन सोमवार को भी जारी है। प्रदर्शनकारियों ने आज राष्ट्रीय राजधानी को जाने वाले पांच मार्गो को जाम करने की चेतावनी दी है। प्रदर्शनकारियों के उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी स्थित मैदान में जाने के बाद बातचीत शुरू करने के केन्द्र के प्रस्ताव को अस्वीकार करते हुए रविवार को कहा था कि वे कोई सशर्त बातचीत स्वीकार नहीं करेंगे। इसके बाद उन्होंने आगे की कार्रवाई के लिए एक बैठक बुलाई थी। वहीं शनिवार को बुराड़ी के निरंकारी समागम मैदान पहुंचे किसानों का वहां प्रदर्शन जारी है। प्रदशर्न के कारण शहर में यातायात प्रभावित हो रहा है। दिल्ली यातायात पुलिस ने सोमवार सुबह ही लोगों को सिंघु और टिकरी बॉर्डर के बंद रहने की जानकारी देते हुए अन्य मार्ग से जाने को कहा। उसने ट्वीट किया, ‘‘ सिंघु बॉर्डर दोनों ओर से बंद है। कृपया दूसरे मार्ग से जाएं। मुकरबा चौक और जीटीके रोड पर यातायात परिवर्तित किया गया है। भयंकर जाम लगा है।

इसे भी पढ़ें: UP में एक दिन की थानेदार बनी दसवीं की छात्रा आंचल! सुलझाया दो भाइयों का विवाद

कृपया सिग्नेचर ब्रिज से रोहिणी और रोहिणी से सिग्नेचर ब्रिज, जीटीके रोड, एनएच-44 और सिंघु बॉर्डर तक बाहरी रिंग रोड मार्ग पर जाने से बचें।’’ उसने अन्य एक ट्वीट में कहा, ‘‘ टीकरी बॉर्डर पर भी यातायात बंद है। हरियाणा के लिए सीमावर्ती झाड़ौदा, ढांसा, दौराला झटीकरा, बडूसरी, कापसहेड़ा, राजोकड़ी एनएच-8, बिजवासन / बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेड़ा बॉर्डर खुले हैं।’’ केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने किसान संगठनों से बुराड़ी मैदान पहुंचने की अपील की थी और कहा था कि वहां पहुंचते ही केन्द्रीय मंत्रियों का एक उच्चस्तरीय दल उनसे बातचीत करेगा।

इसे भी पढ़ें: भारत में कोरोना के 38,772 नए मामले, संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 94.31 लाख

किसानों के 30 से अधिक संगठनों की रविवार को हुई बैठक में किसानों के बुराड़ी मैदान पहुंचने पर तीन दिसम्बर की तय तारीख से पहले वार्ता की केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की पेशकश पर बातचीत की गयी, लेकिन हजारों प्रदर्शनकारियों ने इस प्रस्ताव को स्वीकारने से मना कर दिया और सर्दी में एक और रात सिंघु तथा टीकरी बार्डरों पर डटे रहने की बात कही। उनके प्रतिनिधियों ने कहा था कि उन्हें शाह की यह शर्त स्वीकार नहीं है कि वे प्रदर्शन स्थल बदल दें। उन्होंने दावा किया कि बुराड़ी मैदान एक ‘खुली जेल’ है। केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने शनिवार को 32 किसान संगठनों को भेजे गए पत्र में ठंड के मौसम और कोविड-19 की परिस्थितियों का हवाला देते हुए कहा था कि किसानों को बुराड़ी मैदान जाना चाहिए, जहां उनके लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


चुनाव सांप्रदायिक वोटों की जागीरदारी और समावेशी विकास की भागीदारी के बीच जनादेश की जंग है: नकवी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 2, 2021   18:53
  • Like
चुनाव सांप्रदायिक वोटों की जागीरदारी और समावेशी विकास की भागीदारी के बीच जनादेश की जंग है: नकवी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक केंद्रीय मंत्री ने उत्तर प्रदेश के रामपुर में भाजपा कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि इन चुनावों में विकास पर विश्वास एक “बड़ी कसौटी” है।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में होने वाले विधानसभा के चुनाव ‘‘सांप्रदायिक वोटों की जागीरदारी’’ और ‘‘समावेशी विकास की भागीदारी’’ के बीच जनादेश की जंग है। नकवी के कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक केंद्रीय मंत्री ने उत्तर प्रदेश के रामपुर में भाजपा कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि इन चुनावों में विकास पर विश्वास एक “बड़ी कसौटी” है। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में फ्रंट फुट पर खेलने को बीजेपी तैयार, PM मोदी 20 और अमित शाह करेंगे 50 रैलियां! 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विकास और सुशासन का ‘‘प्रामाणिक ब्रांड’’ बताते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि उन्होंने बिना किसी भेदभाव के समावेशी विकास और सर्वस्पर्शी सशक्तीकरण के संकल्प के जरिये हर जरूरतमंद तक विकास की रौशनी पहुंचाने का प्रयास किया है। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए नकवी ने कहा कि कुछ राजनैतिक दल विरासत पर सियासत को अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे ही लोग कर्म की कसौटी पर असफल हो रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


हिमाचल विधानसभा में कांग्रेस का बहिर्गमन, मुख्यमंत्री ने कहा- राज्यपाल से धक्का-मुक्की अक्षम्य

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 2, 2021   18:46
  • Like
हिमाचल विधानसभा में कांग्रेस का बहिर्गमन, मुख्यमंत्री ने कहा- राज्यपाल से धक्का-मुक्की अक्षम्य

विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय के बाहर कथित घटना तब हुई थी, जब राज्यपाल बजट सत्र के पहले दिन सदन में अपना अभिभाषण देने के बाद राजभवन के लिए रवाना हो रहे थे।

शिमला। कांग्रेस ने मंगलवार को अपने पांच विधायकों के निलंबन को रद्द करने की मांग को लेकर हिमाचल प्रदेश विधानसभा से वॉकआउट किया, जिसका मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने विरोध किया। ठाकुर ने कहा कि राज्यपाल के साथ धक्का-मुक्की करना एक अक्षम्य अपराध है। गौरतलब है कि राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से कथित रूप से धक्का-मुक्की करने के लिए विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री और चार अन्य कांग्रेस विधायकों हर्षवर्धन चौहान, सतपाल रायजादा, सुंदर सिंह और विनय कुमार को शुक्रवार को 20 मार्च तक विधानसभा के पूरे बजट सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा की घटना पर उपराष्ट्रपति ने जताई चिंता, जनप्रतिनिधियों से बोले- गरिमापूर्ण तरीके से करें आचरण 

विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय के बाहर कथित घटना तब हुई थी, जब राज्यपाल बजट सत्र के पहले दिन सदन में अपना अभिभाषण देने के बाद राजभवन के लिए रवाना हो रहे थे। सत्र के पहले दिन हुए हंगामे के बाद राज्यपाल ने अपने भाषण को को पूरा नहीं पढ़ा था और उनका शेष भाषण पढ़ा हुआ मान लिया गया। अध्यक्ष विपिन परमार ने इस संबंध में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। कांग्रेस विधायक सुखविंदर सिंह सुक्खू ने मंगलवार को राज्य विधानसभा में एक ध्यान आकर्षण प्रस्ताव पेश किया, जिसमें मांग की गई कि उनकी पार्टी के विधायकों का निलंबन रद्द किया जाए।

उन्होंने अपनी पार्टी के विधायकों पर लगे आरोपों से भी इनकार किया और दावा किया कि सदन के उपाध्यक्ष हंसराज और संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने शुक्रवार को कांग्रेस विधायकों के साथ हाथापाई की थी। उन्होंने कहा कि अगर उनका निलंबन रद्द नहीं किया जाता है, तो सदन की कार्यवाही चलने नहीं दी जाएगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि राज्यपाल के साथ धक्का-मुक्की करना एक अक्षम्य अपराध है और असहनीय घटना है। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा में कांग्रेस का जोरदार हंगामा, अपने अभिभाषण की केवल आखिरी पंक्ति पढ़ पाए राज्यपाल 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है। पूरे प्रकरण को कई कैमरों द्वारा कैद किया गया है। ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस ऐसी हरकतें इसलिए कर रही है कि क्योंकि वह राजनीतिक आधार खो चुकी है। इस बीच, निलंबित कांग्रेस विधायकों ने अपने विरूद्ध दर्ज प्राथमिकी के खिलाफ लगातार दूसरे दिन विधानसभा के बाहर धरना जारी रखा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


करनाल के स्कूल में कोरोना का विस्फोट, 54 छात्र हुए COVID 19 से संक्रमित

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 2, 2021   18:16
  • Like
करनाल के स्कूल में कोरोना का विस्फोट, 54 छात्र हुए COVID 19 से संक्रमित

सोमवार को स्कूल से 3 बच्चों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने स्कूल से 390 बच्चों और स्टॉफ के सैंपल लिए। जिसमें से आज 54 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

हरियाणा के करलान में एक स्कूल हॉस्टल में रह रहे 54 छात्र कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। करनाल के सिविल सर्जन योगेश कुमार शर्मा ने कहा हमारी टीम ने हॉस्टल का दौरा किया है। हॉस्टल को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। राज्य में शर्तों के साथ स्कूल और कॉलेज खोले जा चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: डॉ अशोक तंवर ने लॉन्च किया अपना भारत मोर्चा, बोले- मौन आवाम की बनेगा आवाज

सोमवार को स्कूल से 3 बच्चों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने स्कूल से 390 बच्चों और स्टॉफ के सैंपल लिए। जिसमें से आज 54 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सैनिक स्कूल में हरियाणा के अलावा विभिन्न राज्यों के बच्चे पढ़ रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept