झारखंड वोटिंग: हताश नक्सलियों ने मतदाताओं को डराने के लिए जंगल में किया विस्फोट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2019   12:05
झारखंड वोटिंग: हताश नक्सलियों ने मतदाताओं को डराने के लिए जंगल में किया विस्फोट

अपर पुलिस महानिदेशक एवं झारखंड चुनाव में सुरक्षा व्यवस्था के नोडल अधिकारी मुरारीलाल मीणा ने बताया कि हताश नक्सलियों ने मतदाताओं में भय पैदा करने के लिए बिशुनपुर के बानालाट और वीरानपुर के बीच जंगल में एक पुलिया के निकट यह विस्फोट किया।

बिशुनपुर। झारखंड में भारी सुरक्षा के बीच जारी विधानसभा चुनावों के प्रथम चरण के मतदान के दौरान आज शनिवार सुबह लगभग साढ़े आठ बजे नक्सलियों ने बिशुनपुर के घाघरा गांव के जंगल में एक पुलिया के निकट विस्फोट किया। हालांकि किसी भी तरह के जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। पुलिस बल मौके पर मौजूद है और इलाके की घेराबंदी कर जांच की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: BJP की कार्रवाई के बाद बोलीं साध्वी प्रज्ञा, उधम सिंह के अपमान के विरोध में की थी टिप्पणी

अपर पुलिस महानिदेशक एवं झारखंड चुनाव में सुरक्षा व्यवस्था के नोडल अधिकारी मुरारीलाल मीणा ने बताया कि हताश नक्सलियों ने मतदाताओं में भय पैदा करने के लिए बिशुनपुर के बानालाट और वीरानपुर के बीच जंगल में एक पुलिया के निकट यह विस्फोट किया। हालांकि इससे कोई नुकसान नहीं हुआ है। मीणा ने बताया कि सभी 13 विधानसभा क्षेत्रों में शांतिपूर्ण ढंग से मतदान जारी है और कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है। पहले चरण में 13 सीटों पर शनिवार सुबह नौ बजे तक 11.02प्रतिशत मतदान हुआ।

इसे भी पढ़ें: राजनाथ ने गांधीजी को बताया मार्गदर्शक, गोडसे को देशभक्त मानने वालों की निंदा की

 इस दौरानचतरा (एससी) में 11.56 %, गुमला (एसटी) में 12.70% , बिशुनपुर (एसटी) में 11.12 % , लोहरदगा (एसटी) 11.68 %,मनिका (एसटी) में 13.62 % , लातेहार (एससी) 12. 89 %, पांकी 9.20 % , डाल्टेनगंज 10. 70 % , विश्रामपुर 9.50% , छत्तरपुर (एससी) 10.80 %, हुसैनाबाद 9.70 % , गढ़वा 11.00 %और भवनाथपुर 10. 00% प्रतिशत मतदान हुआ। चुनाव आयोग के अधिकारियों के अनुसार मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ और दोपहर तीन बजे तक चलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।