PM मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा से मिले धामी, Uniform Civil Code पर दिया बड़ा बयान

Dhami
अभिनय आकाश । Apr 05, 2022 4:56PM
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर मैंने 12 फरवरी 2022 को एक संकल्प उत्तराखंड की जनता के समक्ष रखा था कि सरकार का गठन होते ही यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन होगा।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भेंट की है। इस दौरान सीएम धामी ने उनके मार्गदर्शन और केंद्र सरकार से मिल रहे सहयोग पर आभार व्यक्त किया है व राज्य में संचालित विकास कार्यों के बारे में अवगत कराया। इससे पहले धामी की मुलाकात गृह मंत्री अमित शाह से हुई। हालांकि उन्होंने इस मुलाकात को शिष्टाचार भेंट बताया है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा से मुलाकात की है। 

पीएम से विकास कार्यों को लेकर चर्चा 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद धामी ने कहा कि उत्तराखंड में पूरा चुनाव अभियान प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में चला और पूर्ण बहुमत के साथ वहां पर बीजेपी की सरकार बनी। जैसे प्रधानमंत्री ने भी पहले ही कहा है कि आने वाला दशक उत्तराखंड का दशक होगा।  मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से जीएसटी प्रतिकर अवधि बढ़ाए जाने का भी अनुरोध किया। उन्होंने नवीनतम तकनीक व वैज्ञानिक शोध को बढ़ावा देने के लिये भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान की स्थापना और फार्मास्यूटिकल उद्योग के विकास के लिये नेशनल इंस्टीट्यूट आफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एण्ड रिसर्च की स्थापना का आग्रह किया। 

इसे भी पढ़ें: चारधाम यात्रा की तैयारियां 30 अप्रैल तक पूरी करने के निर्देश, 2 साल बाद आएंगे श्रद्धालु

यूनिफॉर्म सिविल कोड पर क्या कहा? 

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर मैंने 12 फरवरी 2022 को एक संकल्प उत्तराखंड की जनता के समक्ष रखा था कि सरकार का गठन होते ही यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन होगा। धामी ने कहा कि वो कमेटी एक ड्रॉफ्ट बनाएगी और उसके आधार पर ही उत्तराखंड में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू होगा। उस पर हम कार्रवाई कर रहे हैं और पहली कैबिनेट में हमने कैबिनेट नोट बना दिया है, जिस पर काम किया जा रहा है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़