चारधाम यात्रा की तैयारियां 30 अप्रैल तक पूरी करने के निर्देश, 2 साल बाद आएंगे श्रद्धालु

badrinath
प्रतिरूप फोटो
ऋषिकेश में चार धाम यात्रा की समीक्षा बैठक में शर्मा ने अधिकारियों को सभी विभागों के कार्य 30 अप्रैल तक पूरा करने का आदेश देते हुए कहा कि दो वर्ष बाद होने वाली इस यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या सामान्य से बहुत ज्यादा होने की संभावना है। मंडलायुक्त ने कहा कि सभी तैयारियां को तत्परता से पूरा किया जाए।

ऋषिकेश। उत्तराखंड के गढ़वाल के मंडलायुक्त सुशील कुमार शर्मा ने सोमवार को अधिकारियों को अगले महीने से शुरू हो रही चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या सामान्य से अधिक होने की संभावना के चलते सभी कार्य 30 अप्रैल तक पूरे करने के निर्देश दिए। ऋषिकेश में चार धाम यात्रा की समीक्षा बैठक में शर्मा ने अधिकारियों को सभी विभागों के कार्य 30 अप्रैल तक पूरा करने का आदेश देते हुए कहा कि दो वर्ष बाद होने वाली इस यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या सामान्य से बहुत ज्यादा होने की संभावना है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड की महिला ने राहुल गांधी के नाम की अपनी सारी संपत्ति, बताई इसके पीछे की खास वजह 

मंडलायुक्त ने कहा कि सभी तैयारियां को तत्परता से पूरा करते हुए यह सुनिश्चित किया जाए कि श्रद्धालुओं को कोई असुविधा नहीं हो और वे एक अच्छा अनुभव लेकर लौटें। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के ‘अतिथि देवो भव:’ के मंत्र का पालन करने के निर्देश का हवाला देते हुए शर्मा ने कहा कि श्रद्धालुओं से अच्छा व्यवहार किया जाए और अभद्रता की शिकायत मिलने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। तीन मई को अक्षय तृतीया के पर्व पर गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही इस वर्ष की चारधाम यात्रा की शुरुआत हो जाएगी। चारधाम के नाम से प्रसिद्ध दो अन्य मंदिरों - केदारनाथ और बदरीनाथ के कपाट भी क्रमश: छह और आठ मई को श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिए जाएंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़