दिशा सालियान के माता-पिता ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, केंद्रीय मंत्री राणे के खिलाफ कार्रवाई की अपील की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 25, 2022   16:50
दिशा सालियान के माता-पिता ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, केंद्रीय मंत्री राणे के खिलाफ कार्रवाई की अपील की

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व प्रबंधक दिशा सालियान के माता-पिता ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदको पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने अपनी बेटी की मौत के बारे में झूठी खबरें फैलाने और परिवार को बदनाम करने के आरोप में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, उनके बेटे तथा विधायक नितेश और अन्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

मुंबई। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व प्रबंधक दिशा सालियान के माता-पिता ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने अपनी बेटी की मौत के बारे में झूठी खबरें फैलाने और परिवार को बदनाम करने के आरोप में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे, उनके बेटे तथा विधायक नितेश और अन्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। दिशा के पिता सतीश सालियान और मां वसंती ने कहा कि यदि उन्हें न्याय नहीं मिला तो उनके पास आत्महत्या के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा। सतीश और वसंती सालियान ने बुधवार को राष्ट्रपति को एक पत्र लिखकर भाजपा नेता राणे और उनके बेटे द्वारा किये जा रहे उत्पीड़न को रोकने का आग्रह किया।

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी शख्स को कमरा नहीं देना दिल्ली के इस होटल को पड़ा भारी, पुलिस और OYO ने लिया बड़ा एक्शन

राणे और उनके बेटे नितेश के खिलाफ दिशा के बारे में कथित रूप से मानहानिकारक टिप्पणी करने और गलत जानकारी फैलाने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। दिशा सलियन (28) ने 8 जून, 2020 को उपनगरीय मलाड में एक ऊंची इमारत से कूदकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी, इसके छह दिन बाद राजपूत (34) का शव बांद्रा में उनके अपार्टमेंट के कमरे में लटका पाया गया था।

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा सदस्य बनने के लिए कांग्रेस में खड़ा हुआ बवाल, अब सोनिया गांधी से मुलाकात करने दिल्ली पहुंचे अजय सिंह

पत्र में राष्ट्रपति को सूचित किया कि उनकी बेटी की मृत्यु के बाद, सोशल मीडिया पर सक्रिय कुछ लोगों ने घटना (उसकी कथित आत्महत्या) को राजपूत की मौत से जोड़ना शुरू कर दिया था और समाचार चैनल व सोशल मीडिया पर काल्पनिक तथा तथ्यात्मक रूप से गलत जानकारी फैलानी शुरू कर दी थी। पत्र में कहा गया है, नारायण राणे और नितेश राणे जैसे कुछ नेताओं ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरेऔर उनके बेटे आदित्य के साथ अपनी निजी प्रतिद्वंद्विता के कारण इस मुद्दे पर हस्तक्षेप किया और हमें अपनी राजनीतिक लड़ाई में खींचकर हमारे जीवन को दुखदायी बना दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।