दिल्ली में भ्रष्टाचार का ट्विन टावर है शिक्षा और शराब घोटाला, BJP ने कहा- 400 विद्यालय ऐसे हैं जहां कभी भी हो सकती दुर्घटना

Manoj tiwary
BJP
अभिनय आकाश । Aug 30, 2022 12:58PM
बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कहा कि दिल्ली में भ्रष्टाचार का ट्वीन टावर शिक्षा और शराब घोटाला है। दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि अरविंद केजरीवाल घोटालों में शामिल अपने मंत्रियों का इस्तीफा कब मांगेंगे। 38 दिन हो गए हैं और शराब घोटाले के बारे में हमारे 15 सवालों का जवाब अरविंद केजरीवाल ने नहीं दिया है।

दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी और शहजाद पूनावाला ने संयुक्त रूप से नई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने दिल्ली के स्कूल मॉडल से लेकर आबकारी नीति तक पर केजरीवाल सरकार पर जमकर निशाना साधा। बीजेपी नेता मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली के एक स्कूल में एक लड़की पर पंखा गिर गया और बच्ची की हालात गंभीर है। कई स्कूलों की हालत खराब है। रिपोर्ट के अनुसार, एक कक्षा जो 5 लाख रुपये में बन सकती थी, 33 लाख रुपये में बनाई गई थी। यहां तक ​​कि शौचालयों को भी कक्षाओं के रूप में गिना जाता था। यह दिल्ली सरकार द्वारा भ्रष्टाचार का एक स्पष्ट मामला है।

इसे भी पढ़ें: 'केजरीवाल की सरकार को गिराना चाहती है भाजपा', आतिशी बोलीं- दिल्ली में नाकाम रही उनकी साजिश

स्कूलों के लिए सेमी परमानेंट स्ट्रक्चर बनाया जा रहा है। यह अल्पावधि के लिए बनाया गया है। इस तरह की संरचना कमजोर है, जिससे स्कूली बच्चों को खतरा है। वहीं बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कहा कि दिल्ली में भ्रष्टाचार का ट्वीन टावर  शिक्षा और शराब घोटाला है। दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि अरविंद केजरीवाल घोटालों में शामिल अपने मंत्रियों का इस्तीफा कब मांगेंगे। 38 दिन हो गए हैं और शराब घोटाले के बारे में हमारे 15 सवालों का जवाब अरविंद केजरीवाल ने नहीं दिया है। 

इसे भी पढ़ें: 'दिल्ली में ऑपरेशन लोटस हुआ विफल', केजरीवाल बोले- देशभर में 20-20 करोड़ में 277 विधायक खरीदे गए, इस वजह से बढ़ी तेल की कीमत

बीजेपी नेता ने कहा कि आम आदमी पार्टी मुद्दे को मोड़ती रहती है और सवालों से बचती रहती है। केजरीवाल जी, मत कहो अत्याचार, अत्याचार, मत करो असेंबली में ड्रामा और दुराचार। ये बताओ कि क्यूं किया शराब और शिक्षा में इतना व्यापक भ्रष्टाचार? शहजाद पूनावाला ने कहा कि शराब की बिक्री बढ़ी, लेकिन सरकारी खजाने में सेंधमारी हुई। यदि यह 750 मिलीलीटर की बोतल (शराब की) है जो 550 रुपये में आती है, तो पुरानी (शराब) नीति के तहत, शराब की दुकानों को 33 रुपये मिल रहे थे और 330 रुपये सरकारी खजाने में जा रहे थे 

अन्य न्यूज़