महाशिवरात्रि पर एमपी के सभी बड़े शिव मंदिरों में होंगे आयोजन, मंदिरों को संवारने में जुटा पर्यटन एवं संस्कृति विभाग

महाशिवरात्रि पर एमपी के सभी बड़े शिव मंदिरों में होंगे आयोजन, मंदिरों को संवारने में जुटा पर्यटन एवं संस्कृति विभाग

पर्यटन विभाग ने रूरल टूरिज्म के क्षेत्र में नई पहल की शुरूआत की है। इस पहल के तहत 100 गांव चिन्हित किए गए हैं। 65 गांव अब तक तैयार हो गए है। यहां पर्यटक नाइट स्टे भी कर सकते हैं। यहां से आसानी से पर्यटन स्थल तक पहुंच सकते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार ‘राम’ के बाद अब ‘शिव’ की भक्ति में रंगेगी। महाशिवरात्रि पर प्रदेश के प्रसिद्ध शिव मंदिरों में पूजा करेगी। 1 मार्च को सभी प्राचीन शिव मंदिर में बड़े आयोजन होने जा रहे है। पर्यटन एवं संस्कृति विभाग प्रदेश मे कई ऐतिहासिक स्थलों के संवारने में जुटी हुई है। 

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के ऐतिहासिक स्थलों का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। जहां से डिमांड आ रही है वहां पर परीक्षण के लिए टीम भेजी जा रही है। परीक्षण के बाद डीपीआर बनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें:यूक्रेन से वापस लौटे 242 छात्रों में से 2 एमपी के भी, बयां किया अपना दर्द 

उषा ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में दूर-दराज के 65 गांव पर्यटकों की सैरगाह बने हैं। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर तैयार हो रहे हैं। इसके साथ ही ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पहल है।

आपको बता दें कि बता दें कि पर्यटन विभाग ने रूरल टूरिज्म के क्षेत्र में नई पहल की शुरूआत की है। इस पहल के तहत 100 गांव चिन्हित किए गए हैं। 65 गांव अब तक तैयार हो गए है। यहां पर्यटक नाइट स्टे भी कर सकते हैं। यहां से आसानी से पर्यटन स्थल तक पहुंच सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:CM शिवराज पीएम आवास में हितग्राहियों को करवाएंगे गृह प्रवेश, नए घर बनाने का होगा भूमि-पूजन 

वहीं हिजाब विवाद पर मंत्री ने कहा कि देश संविधान से चलता है। व्यक्तिगत स्वतंत्र घर, बाजार और धार्मिक स्थल तक ठीक है। उन्होंने कहा कि देश जब से आजाद हुआ तब से कुछ लोग तुष्टिकरण की राजनीति कर रहे हैं। निजी स्वार्थ की राजनीति करते हैं। ये नहीं होना चहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।