युद्ध में जान देने वाले सैनिकों के परिजन सरकारी आवास में एक साल तक रह सकते हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   19:10
युद्ध में जान देने वाले सैनिकों के परिजन सरकारी आवास में एक साल तक रह सकते हैं

विज्ञप्ति में कहा गया कि जरूरतों और सेना के तीनों अंगों-थलसेना, नौसेना तथा वायुसेना की मांगों के मद्देनजर रक्षा मंत्रालय ने मौजूदा प्रावधानों की समीक्षा की और सेना कर्मियों का मनोबल ऊंचा करने के लिए अवधि को बढ़ा दिया।

नयी दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को उस प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान कर दी जिसमें युद्ध में जान गंवाने वाले सैनिकों के परिजनों को सरकारी आवास में तीन महीने की जगह एक साल तक रहने की अनुमति प्रदान करने की बात कही गई है।

रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया, ‘‘वर्तमान में, शत्रु बलों के खिलाफ कार्रवाई या शत्रु के हवाई हमलों में जान गंवाने वाले सशस्त्र बल कर्मियों के परिजनों को सरकारी आवास में तीन महीने तक रहने की अनुमति मिलती है जिसे अब बढ़ाकर एक साल कर दिया गया है।’’ विज्ञप्ति में कहा गया, ‘‘जरूरतों और सेना के तीनों अंगों-थलसेना, नौसेना तथा वायुसेना की मांगों के मद्देनजर रक्षा मंत्रालय ने मौजूदा प्रावधानों की समीक्षा की और सेना कर्मियों का मनोबल ऊंचा करने के लिए अवधि को बढ़ा दिया।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।