कृषि कानूनों की वापसी पर राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, बोले- तत्काल वापस नहीं होगा किसान आंदोलन

कृषि कानूनों की वापसी पर राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, बोले- तत्काल वापस नहीं होगा किसान आंदोलन

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा, हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। सरकार एमएसपी के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करें।

नयी दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि किसान आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि संसद के आगामी सत्र में सरकार एक विधेयक लाएगी और इसे रद्द करेगी। इस पर किसान नेता राकेश टिकैत की प्रतिक्रिया सामने आई। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की बड़ी बातें:- सरकार ने रिकॉर्ड सरकारी खरीद केंद्र बनाए 

किसान नेता ने कहा कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा, हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। सरकार एमएसपी के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करें।

इसे भी पढ़ें: फिर यूपी दौरे पर जाएंगे PM मोदी, कई परियोजनाओं का करेंगे शुभारंभ, लखनऊ में करेंगे रात्रि विश्राम 

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने बताया कि आज मैं आपको, पूरे देश को ये बताने आया हूं कि हमने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है। इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में, हम इन तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देंगे। उन्होंने कहा कि आज ही सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़ा एक और अहम फैसला लिया है। जीरो बजट खेती यानि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए, देश की बदलती आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर क्रॉप पैटर्न को वैज्ञानिक तरीके से बदलने के लिए है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।