इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल ऑफ़ शिमला में जर्मनी, मोरोको, अमेरिका, ईरान और कोरिया की फ़िल्म निदेशक करेंगे शिरकत

इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल ऑफ़ शिमला में जर्मनी, मोरोको, अमेरिका, ईरान और  कोरिया की फ़िल्म निदेशक करेंगे शिरकत

कोरिया के डायरेक्टर मैथ्यू कोशमारी की डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'फादर ऑफ माई लैंड' की स्क्रीनिंग होगी इस दौरान फिल्म के निदेशक गेयटी थिएटर में दर्शकों से रूबरू होंगे। यह फिल्म कोरिया के किसानों की है, जो कि जापान सरकार द्वारा विवादास्पद द्वीप पर उनके अधिकारों की लड़ाई को लेकर है।

शिमला  गेयटी  थियेटर शिमला में 26 से 28 नवंबर तक आयोजित होने वाले इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ शिमला में मरोक्को, यूएसए, इरान, जर्मनी, और कोरिया के डायरेक्टर अपने फिल्म की स्क्रीनिंग के लिए आएंगे और अपनी फिल्म  के बारे में शिमला के दर्शकों से संवाद करेंगे।

 

कोरिया के डायरेक्टर मैथ्यू कोशमारी की डॉक्यूमेंट्री फिल्म 'फादर ऑफ माई लैंड' की स्क्रीनिंग होगी इस दौरान फिल्म के निदेशक गेयटी  थिएटर में दर्शकों से रूबरू होंगे। यह फिल्म कोरिया के किसानों की है, जो कि जापान सरकार द्वारा विवादास्पद द्वीप पर उनके  अधिकारों की लड़ाई को लेकर है।

इसे भी पढ़ें: डीसी राघव शर्मा ने बीमा जागरूकता वाहन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

 ईरान के डायरेक्टर पेमेन महमूद शाह मोहम्मदी की शॉर्ट फिल्म 'अपारात' की स्क्रीनिंग के दौरान मौजूद रहेंगे और ईरान की फिल्मों के बारे में अपना वक्तव्य प्रस्तुत करेंगे। पेमेन महमूद की सतरह मिनट की शार्ट फिल्म है,जो कि ईरान के एक गांव में प्रोजेक्टर पर फिल्म देखने के लिए वित्तीय प्रबंध करने वाले छ: बच्चों के संघर्ष की कहानी है।  जर्मनी के डायरेक्टर रोनाल्ड अपनी फीचर फिल्म ' डाई ग्रेंज ' की स्क्रीनिंग के दौरान गेयटी थिएटर में फिल्मों के अंतरराष्ट्रीय स्वरूप पर दर्शकों से बात करेंगे और जर्मनी में फिल्मों के प्रचलन पर भी चर्चा करेंगे।

 

इसे भी पढ़ें: थलाईवी” के निर्देशक विजय 28 को आएंगे शिमला, देंगे निर्देशन के टिप्स

 

 मोरक्को के फिल्मेकर 'वाउचैन' की डॉक्यूमेंट्री फिल्म का 'अमगाहर' की स्क्रीनिंग के दौरान वे स्वयं गेयटी थियेटर में मौजूद रहेंगे और मोरक्को के सिनेमा पर बात करेंगे।  इसके अलावा अमेरिका में काम कर रहे भारतीय मूल के फिल्ममेकर 'श्री आर्यमन प्रसाद' की शार्ट फिल्म 'ऊंच नीच' प्रदर्शित की जाएगी और वे स्वयं दशकों से फिल्म की बारीकियों  पर और अमेरिका में सिनेमा के संदर्भ पर बात करेंगे।

 हालांकि फेस्टिवल में 16 देशों की फिल्में शॉर्टलिस्ट हुई है। और देश भर के विभिन्न राज्यों से 23  फिल्ममेकर इस फिल्म फेस्टिवल में स्वयं अपनी फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान मौजूद रहेंगे और दर्शकों से अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सिनेमा पर चर्चा करेंगे।

इसे भी पढ़ें: विदेशों में अध्ययन के लिए जाने वाले हिमाचलियों को विदेशी रहन सहन समझने में मदद करेगी हिमाचली प्रवासी ग्लोबल एसोसिएशन

हालांकि इस फिल्म फेस्टिवल में तमिल, मराठी, बंगाली,उड़िया, तेलुगु,मलयाली, हिमाचली, हिंदी और अंग्रेजी फिल्में भी प्रदर्शित होंगीं। भारतीय फिल्मों में सबसे बड़ा आकर्षण हाल ही में रिलीज हुई कंगना रनौत की फिल्म 'थलाइवी 'होगी। तमिल फिल्म इंडस्ट्री के सुप्रसिद्ध निर्देशक विजय ने इस फिल्म का निर्देशन किया है। वे स्वयं अपनी फिल्म की स्क्रीनिंग और उस पर चर्चा के लिए मौजूद रहेंगे। गौरतलब है कि इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल के छह संस्करणों का इससे पूर्व सफलतापूर्वक आयोजन किया जा चुका है जिसमें की पूर्व में दीप्ति नवल, संजय मिश्रा और बड़े एक्टर शिरकत कर चुके हैं। इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल ऑफ़ शिमला हिमालयन विलोसिटी संस्था द्वारा हिमाचल प्रदेश सरकार और भाषा कला संस्कृति के तत्वाधान में आयोजित किया जाता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...