यूक्रेन से भारतीय छात्रों के पहले जत्थे ने हंगरी में किया प्रवेश, वीडियो आया सामने

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2022   19:09
यूक्रेन से भारतीय छात्रों के पहले जत्थे ने हंगरी में किया प्रवेश, वीडियो आया सामने

दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘भारतीय छात्रों के पहले जत्थे ने यूक्रेन से जाहोनी सीमा पार बिंदु से हंगरी में प्रवेश किया, जो आज एअर इंडिया की उड़ान से भारत लौटने के लिए बुडापेस्ट जाएगा।’’ भारत शुक्रवार को पश्चिमी यूक्रेन में ल्वीव और चेर्नित्सि नगरों में शिविर कार्यालय स्थापित करने में कामयाब रहा था।

नयी दिल्ली।भारतीय छात्रों के पहले जत्थे ने शनिवार को यूक्रेन से जाहोनी सीमा पार बिंदु के रास्ते हंगरी में प्रवेश किया। हंगरी में भारत के दूतावास ने कहा कि छात्रों को एअर इंडिया की एक उड़ान से भारत भेजने के लिए बुडापेस्ट ले जाया जा रहा है। दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘भारतीय छात्रों के पहले जत्थे ने यूक्रेन से जाहोनी सीमा पार बिंदु से हंगरी में प्रवेश किया, जो आज एअर इंडिया की उड़ान से भारत लौटने के लिए बुडापेस्ट जाएगा।’’ भारत शुक्रवार को पश्चिमी यूक्रेन में ल्वीव और चेर्नित्सि नगरों में शिविर कार्यालय स्थापित करने में कामयाब रहा था, ताकि भारतीयों को हंगरी, रोमानिया और पोलैंड स्थानांतरित किया जा सके। 

इसे भी पढ़ें: 219 छात्रों की घरवापसी से पहले रोमानिया में भारतीय राजदूत ने की भावुक संदेश, हर एक को यूक्रेन से निकालने के लिए... 

भारत ने यूक्रेन से भारतीय नागरिकों के बाहर निकलने के समन्वय के लिए हंगरी में जाहोनी सीमा चौकी, पोलैंड में क्राकोविएक के साथ-साथ शेहिनी-मेदिका जमीनी सीमा पार बिंदुओं, स्लोवाक गणराज्य में विसने नेमेके और रोमानिया में सुचेवा सीमा पार बिंदुपर अधिकारियों की टीमों को तैनात किया है। भारत अपने नागरिकों को यूक्रेन से हंगरी, पोलैंड, स्लोवाकिया के साथ उसकी जमीनी सीमाओं के जरिये निकालने की कोशिश कर रहा है क्योंकि यूक्रेन की सरकार ने रूसी सैन्य हमले के बाद देश के हवाई क्षेत्र को बंद कर दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।