ओडिशा में महानदी के आस-पास के इलाकों में बाढ़ का खतरा

 Mahanadi
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
ओडिशा के ऊपरी जलग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश और हीराकुंड जलाशय में उच्च जल प्रवाह के बाद महानदी के आस-पास के इलाकों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता बिजय कुमार मिश्रा ने कहा कि पश्चिमी ओडिशा के संबलपुर जिले में हीराकुंड बांध के चार और द्वार खोले गए हैं।

भुवनेश्वर, 14 अगस्त। ओडिशा के ऊपरी जलग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश और हीराकुंड जलाशय में उच्च जल प्रवाह के बाद महानदी के आस-पास के इलाकों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों के मुताबिक बंगाल की उत्तरी खाड़ी के ऊपर एक और निन्म दबाव का क्षेत्र बनने के कारण स्थिति और गंभीर हो सकती है। इसके परिणामस्वरूप मौसम विभाग ने राज्य के 17 जिलों में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है। जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता बिजय कुमार मिश्रा ने कहा कि पश्चिमी ओडिशा के संबलपुर जिले में हीराकुंड बांध के चार और द्वार खोले गए हैं।

मौजूदा समय में राज्य के महानदी अनुप्रवाह क्षेत्रों में 24 फाटकों से अतिरिक्त पानी बह रहा है, जो क्षेत्र पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश से त्रस्त था। अभियंता मिश्रा ने कहा कि कटक जिले के मुंडाली में रविवार सुबह करीब छह लाख क्यूसेक पानी जबकि सोमवार को सुबह आठ बजे सात लाख क्यूसेक पानी पहुंचेगा। हीराकुंड से छोड़ा गया पानी आमतौर पर उस क्षेत्र तक पहुंचने में 36 घंटे का समय लेता है।

महानदी को तेल की सहायक नदी से भी अतिरिक्त पानी मिल रहा है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, आज की स्थिति पर विचार करने के बाद हमें लगता है कि महानदी के आस-पास के क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा पैदाहो सकता है यदि ऊपरी जलग्रहण क्षेत्रों और छत्तीसगढ़ में बारिश की स्थिति के आधार पर अधिक पानी छोड़ने की आवश्यकता होती है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़