पीएमसी पर जवाब दें वित्त मंत्री, बैंक निदेशकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हो: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2019   19:12
पीएमसी पर जवाब दें वित्त मंत्री, बैंक निदेशकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हो: कांग्रेस

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘गत 23 सितंबर तक ऐसा कोई संकेत नहीं मिला जिससे कहा जाए कि पीएमसी बैंक की हालत खराब है। अचानक ही पता चला कि बैंक की हालत ठीक नहीं है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने पंजाब एवं महाराष्ट्र सहकारी (पीएमसी) बैंक मामले को भारतीय रिजर्व बैंक की ‘व्यवस्थागत विफलता’ करार दिया और कहा कि वित्त मंत्री को इस मुद्दे पर देश को जवाब देना चाहिए।पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने यह कहा कि पीएमसी बैंक के निदेशकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाए तथा यह सुनिश्चित किया जाए कि वे देश से बाहर नहीं जाएं।वल्लभ ने यह आरोप भी लगाया कि मुंबई से भाजपा के एक विधायक के पुत्र पिछले 13 वर्षों से इस बैंक के निदेशक बने हुए हैं तथा रियल इस्टेट क्षेत्र की कंपनी एचडीआईएल पर भारी कर्ज के बकाये के बावजूद उसे पीएमसी बैंक से कर्ज दिया गया। 

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘गत 23 सितंबर तक ऐसा कोई संकेत नहीं मिला जिससे कहा जाए कि पीएमसी बैंक की हालत खराब है। अचानक ही पता चला कि बैंक की हालत ठीक नहीं है। नोटबन्दी की तरह हाल यहां भी हुआ। पहले कहा गया कि छह महीने में एक हजार रुपये ही निकाल सकते हैं और फिर आदेश जारी हुआ कि छह महीने में 10 हजार रुपये निकाल सकते हैं।’’ वल्लभ ने सवाल किया, ‘‘ रिजर्व बैंक की ओर से समय रहते चेतावनी क्यों नहीं दी गयी? यह आरबीआई की व्यवस्थागत विफलता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ वित्त मंत्री को इस पर जवाब देना चाहिए। उन्हें एक संवाददाता सम्मेलन पीएमसी बैंक पर भी करना चाहिए।’’कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारी मांग है कि पैसा निकासी की सीमा हटाई जाए। आपात स्थिति में किसी को भी पूरे पैसे निकालने की अनुमति दी जाए। 

इसे भी पढ़ें: ‘उत्पीड़न’ बंद होने के बाद प्रधानमंत्री की इच्छानुसार जनसेवा जारी रखूंगा: चिदंबरम

इस बैंक के निदेशक कभी भी बाहर जा सकते हैं। उन्हें रोका जाए और उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हो।’’ वल्लभ ने प्याज की बढ़ी कीमतों को लेकर भी नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और प्रधानमंत्री को अमेरिका से लौटने के बाद इस पर जवाब देना चाहिए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक वीडियो भी प्ले किया जो उस वक्त का है जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और केद्र में संप्रग सरकार थी। इस वीडियो में मोदी यह कहते सुने जा रहे हैं कि ‘लगता है कि प्याज भी लॉकर में रखना पड़ेगा।’वल्लभ ने कहा कि राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड के आंकड़े के मुताबिक,थोक में प्याज की कीमत 32 रुपये प्रति किलो है जबकि खुदरा में प्याज 70-80 रुपये प्रति किलो है। बढ़ी हुई कीमत का फायदा बिचौलियों को हो रहा है।

 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।