पूर्व सीएम कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर साधा निशाना, कहा- युवा पीढ़ी व्यापार करने के लिए हो रही है परेशान

पूर्व सीएम कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर साधा निशाना, कहा- युवा पीढ़ी व्यापार करने के लिए हो रही है परेशान

शिवराज कैबिनेट के मंथन शिविर पर कमलनाथ ने कहा कि हम इनके बारे में कोई चिंता नहीं करते। इनको जितना मंथन करना है वह कर लें और मंथन से इस सरकार का कुछ नहीं होने वाला। इवेंट वाली राजनीति हम नहीं करते। उन्होंने पीएम आवास योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि नाम बदलकर प्रधानमंत्री आवास योजना बना ली।

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सूबे की शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला है। कमलनाथ ने कहा कि आज प्रदेश का हर वर्ग परेशान है। मध्य प्रदेश की आर्थिक गतिविधि चौपट हो रही है। और इसके साथ ही युवा पीढ़ी व्यापार करने के लिए परेशान है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह केवल घोषणा और शोमैनशिप की राजनीति करते हैं। सीएम शिवराज पिछले साल के बजट की घोषणाओं का हिसाब दें। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि बीजेपी पुलिस, प्रशासन और सरकारी पैसों का गलत इस्तेमाल कर रही है। प्रदेश में पैसे के बिना उद्योगपतियों का काम नहीं होता है। और इस कारण मध्यप्रदेश में कोई नया उद्योग नहीं आ रहा है।

इसे भी पढ़ें:रीवा सर्किट हॉउस में बाबा ने किया नाबालिक के साथ दुष्कर्म, पुलिस जुटी जांच में 

दरअसल शिवराज कैबिनेट के मंथन शिविर पर कमलनाथ ने कहा कि हम इनके बारे में कोई चिंता नहीं करते। इनको जितना मंथन करना है वह कर लें और मंथन से इस सरकार का कुछ नहीं होने वाला। इवेंट वाली राजनीति हम नहीं करते। उन्होंने पीएम आवास योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि नाम बदलकर प्रधानमंत्री आवास योजना बना ली। प्रधानमंत्री आवास योजना में लोगों को टेबल के नीचे से पैसे देने पड़ते हैं।

वहीं व्यापमं घोटाले को लेकर कमलनाथ ने कहा कि फिर व्यापमं घोटाला सामने आ रहा है। राज सरकार में भ्रष्टाचार की व्यवस्था बनाई गई। मुझे एमपी के मतदाताओं पर पूरा भरोसा है। आने वाले विधानसभा चुनाव में बीजेपी को जनता सबक सिखाएगी। शिवराज सरकार विधानसभा में गृह प्रवेश करने में जुटी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।