'शिवलिंग' पर गहलोत के बयान से नाराज कांग्रेस नेता ने कहा- कुछ ज्यादा लिबरल दिखाने के लिए बना रहे मजाक, ये घोर पाप है

Gehlot
Creative Common
अभिनय आकाश । May 24, 2022 2:11PM
शिवलिंग को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान को लेकर कांग्रेस नेता ने नाराजगी जाहिर की है। शिवलिंग हमारी आस्था का विषय है, शिवलिंग का माखौल या उसका मजाक नहीं उड़ाया जा सकता है।

ज्ञानवापी मस्जिद मामले की सुनवाई अदालत में जारी है और हिन्दू व मुस्लिम पक्षों की तरफ से अपने-अपने दावे किए जा रहे हैं। ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर देश में बयानबाजी का दौर जारी है। ज्ञानवापी मस्जिद में कथित रूप से मिले शिवलिंग को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान को लेकर कांग्रेस नेता ने नाराजगी जाहिर की है। शिवलिंग हमारी आस्था का विषय है, शिवलिंग का माखौल या उसका मजाक नहीं उड़ाया जा सकता है। ये हमारे लिए कोई राजनीति का विषय नहीं है। राहुल गांधी हमारी पार्टी के सर्वोच्च नेता हैं, वो खुद कह चुके हैं कि वो एक शिवभक्त हैं। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने संगठन में सुधारों के लिए कार्यबल बनाया, राजनीतिक मामलों का समूह भी गठित

कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि चाहे अखिलेश यादव हो या अशोक गहलोत शिवलिंग को तमाशा नहीं बताया जा सकता है। ये करोड़ो हिन्दुओं की आस्था का विषय है। लेकिन अफसोस की बात ये है कि हमारी पार्टी के कुछ नेताओं को अपने आप को कुछ ज्यादा लिबरल दिखाने की वजह से शिवलिंग का मजाक बना रहे हैं। ये ठीक नहीं है, ये घोर पाप है। सनातन धर्म सभी धर्मों का सम्मान करने की शिक्षा देता है। लेकिन अपने धर्म का अपमान करने की अनुमति नहीं देता है।  

इसे भी पढ़ें: अर्जुन सिंह के भाजपा छोड़ने के बाद पार्टी की बंगाल इकाई में दरार गहराती नजर आ रही है

बता दें कि  राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि भाजपा ने वाराणसी में नया तमाशा शुरू कर दिया है। भाजपा-आरएसएस विवाद पैदा करने में माहिर है। इसके साथ ही सपा नेता अखिलेश ने भी विवादित बयान देते हुए कहा था कि कहीं भी पीपल पेड़ के नीचे पत्थर रख दो, लाल झंडा रख दो तो वो मंदिर बन जाता है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़