प्याज निर्यात पर रोक के बाद सरकार ने थोक और खुदरा व्यापारियों के लिए तय की स्टॉक सीमा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2019   17:57
प्याज निर्यात पर रोक के बाद सरकार ने थोक और खुदरा व्यापारियों के लिए तय की स्टॉक सीमा

खुदरा व्यापारियों के लिए प्याज भंडारण की सीमा 100 क्विंटल तक तय की गई है। वहीं थोक व्यापारी 500 क्विंटल तक प्याज का स्टॉक रख सकेंगे। इसके अलावा घरेलू स्तर पर उपलब्धता बढ़ाने के उद्देश्य से प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

नयी दिल्ली। बढ़ती कीमतों के मद्देनजर सरकार ने प्याज के थोक और खुदरा व्यापारियों के लिए भंडारण (स्टॉक) की सीमा तय की है। रविवार को जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार प्याज के निर्यात पर भी प्रतिबंध लगाने की घोषणा की गई है। साथ ही राज्य सरकारों से कहा गया है कि वे स्टॉक की सीमा को लागू करें और प्याज जमाखोरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली सरकार बेचेगी सस्ता प्याज, केजरीवाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना की गाड़ियां

खुदरा व्यापारियों के लिए प्याज भंडारण की सीमा 100 क्विंटल तक तय की गई है। वहीं थोक व्यापारी 500 क्विंटल तक प्याज का स्टॉक रख सकेंगे। इसके अलावा घरेलू स्तर पर उपलब्धता बढ़ाने के उद्देश्य से प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: खुशखबरी! अब दिल्ली सरकार 24 रुपये किलो की दर से बेचेगी प्याज

उल्लेखनीय है कि दिल्ली और आसपास के इलाकों के खुदरा बाजार में प्याज 70 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम की ऊंचाई पर पहुंच गए है। इससे पहले 13 सितंबर को सरकार ने प्याज का निर्यात मूल्य 850 डॉलर प्रति टन तय किया था। बयान में कहा गया है कि इससे प्याज के निर्यात पर कुछ अंकुश लगा था। लेकिन यह पूरी तरह रुका नहीं था। इस वजह से अब सरकार ने प्याज के निर्यात पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।