370 हटाए जाने के फैसले को राज्यपाल पटले ने ऐतिहासिक बताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   16:32
370 हटाए जाने के फैसले को राज्यपाल पटले ने ऐतिहासिक बताया

राज्यपाल आनंदीबेन पटले ने ‘संविधान दिवस’ के मौके पर विधानमंडल की विशेष संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर में धारा- 370 और अनुच्छेद 35 ए हटाया जाना ऐतिहासिक फैसला था।

लखनउ। जम्मू- कश्मीर में धारा 370 और अनुच्छेद 35 ए हटाए जाने को ऐतिहासिक फैसला बताते हुए उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंगलवार को कहा कि यह फैसला संविधान की भावना के अनुरूप है । राज्यपाल ने ‘संविधान दिवस’ के मौके पर विधानमंडल की विशेष संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर में धारा- 370 और अनुच्छेद 35 ए हटाया जाना ऐतिहासिक फैसला था। अब वहां वही कानून चलेंगे, जो भारत के अन्य हिस्सों में हैं। एक देश एक विधान और एक निशान  का सपना पूरा हो गया है। कांग्रेस ने यह आरोप लगाते हुए सदन की कार्यवाही का बहिष्कार किया कि भाजपा संविधान की हत्या कर रही है। राज्यपाल ने संविधान के उद्देश्यों का उल्लेख करते उन्हें पूरा करने में सरकारों की भूमिका पर जोर दिया।

इसे भी पढ़ें: आतंकियों ने कश्मीर विश्वविद्यालय के नजदीक ग्रेनेड फेंका, कई घायल

उन्होंने कुंभ मेला और देव दीपावली जैसे बड़े आयोजनों को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सफलतापूर्वक संपन्न कराने का उल्लेख किया और सहयोग के लिए जनता का धन्यवाद किया। सपा बसपा और अन्य दल विशेष बैठक में शामिल हुए जबकि कांग्रेस ने कार्यवाही का बहिष्कार किया।कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना शुक्ला मोना ने बताया कि भाजपा सदन में तो संविधान की प्रशंसा कर रही है जबकि महाराष्ट्र में वह इसकी हत्या कर रही है। हम संविधान के साथ हैं लेकिन इसके दुरुपयोग का विरोध करते हैं। कांग्रेस के सदस्यों ने विधान भवन परिसर में विरोध- प्रदर्शन किया, उनके हाथ में पोस्टर थे जिन पर लिखा था, महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या। सपा सदस्यों ने भी पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के आगे धरना दिया और उनके हाथ में ‘संविधान बचाओ’ लिखे हुए पोस्टर थे।सपा के विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप ने कहा कि भाजपा संविधान का अनुकरण नहीं कर रही है बल्कि इसके खिलाफ काम कर रही है । उसको पूरा देश देख रहा है । हम यहां भाजपा के खिलाफ और संविधान की रक्षा के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं।

 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।