इंदौर में बजरंग दल के हंगामे के बाद सार्वजनिक शौचालय से हनुमान मंदिर का नाम हटाया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   14:12
इंदौर में बजरंग दल के हंगामे के बाद सार्वजनिक शौचालय से हनुमान मंदिर का नाम हटाया गया

बजरंग दल की स्थानीय इकाई के प्रमुख तन्नू शर्मा ने सोमवार को बताया कि सिरपुर के सार्वजनिक शौचालय के प्रवेश द्वार पर क्षेत्र के खेड़ापति हनुमान मंदिर का नाम लिखा था और संगठन के कार्यकर्ता यह नाम हटाने को लेकर नगर निगम अधिकारियों से कई बार मांग कर चुके थे।

इंदौर (मध्यप्रदेश)। देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर के सिरपुर में सार्वजनिक शौचालय के प्रवेश द्वार पर क्षेत्र के एक हनुमान मंदिर का नाम लिखा होने को लेकर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया जिसके बाद नगर निगम ने सुविधाघर के प्रवेश द्वार पर रंग पुतवाकर वहां से इस धार्मिक स्थल का नाम हटवा दिया है। बजरंग दल की स्थानीय इकाई के प्रमुख तन्नू शर्मा ने सोमवार को बताया कि सिरपुर के सार्वजनिक शौचालय के प्रवेश द्वार पर क्षेत्र के खेड़ापति हनुमान मंदिर का नाम लिखा था और संगठन के कार्यकर्ता यह नाम हटाने को लेकर नगर निगम अधिकारियों से कई बार मांग कर चुके थे।

इसे भी पढ़ें: कृषि कानूनों की वापसी के बाद लखनऊ में किसान महापंचायत, SKM ने MSP पर कानून समेत PM से की 6 मांगें

उन्होंने कहा, ‘‘इस मांग पर ध्यान नहीं दिए जाने के कारण हमने सार्वजनिक शौचालय के सामने रविवार को विरोध प्रदर्शन किया। शौचालय पर हनुमान मंदिर का नाम लिखा होने से हमारी धार्मिक भावनाएं आहत हो रही थीं।’’शर्मा के मुताबिक खेड़ापति हनुमान मंदिर से सार्वजनिक शौचालय करीब 100 मीटर दूर है। उधर, नगर निगम के सार्वजनिक शौचालय विभाग के सुपरवाइजर विनय बागोरा ने कहा, ‘‘हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि संबंधित सार्वजनिक शौचालय एक निजी संस्था चलाती है और नगर निगम वहां साफ-सफाई की स्थिति का निरीक्षण भर करता है।’’

इसे भी पढ़ें: कोरोना से मौत होने पर परिजनों को मिलेगा 50 हजार मुआवजा, 31 दिसंबर तक रहेगा नियम लागू

नगर निगम अधिकारी ने बताया, ‘‘हमें जैसे ही पता चला कि सार्वजनिक शौचालय के प्रवेश द्वार पर खेड़ापति हनुमान मंदिर का नाम लिखा गया है, हमने संबंधित संस्था को बोलकर इस सुविधाघर से यह नाम हटवा दिया है। चश्मदीदों के मुताबिक, बजरंग दल के हंगामे के बाद सार्वजनिक शौचालय के उस स्थान पर नीला रंग पोत दिया गया है, जहां खेड़ापति हनुमान मंदिर का नाम का नाम लिखा गया था। यह शौचालय लम्बे समय से चलाया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...