हेमंत सोरेन पर बरसे अमित शाह, बोले- सत्ता की लालच में वह कांग्रेस की गोद में बैठे गए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2019   09:30
हेमंत सोरेन पर बरसे अमित शाह, बोले- सत्ता की लालच में वह कांग्रेस की गोद में बैठे गए

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पूछा कि हेमंत सोरेन शहीदों के परिजन को क्या जवाब देंगे? हेमंत सोरेन और कांग्रेस ने स्वार्थवश गठबंधन किया है। अलग झारखंड राज्य की मांग करने वाले और विरोध करने वाले आज साथ-साथ हैं।

गढ़वा। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को विपक्ष पर हमला बोलते हुए तंज कसा कि जिस कांग्रेस ने पृथक झारखण्ड की मांग करने वाले युवाओं पर गोलियां चलवाई थीं, हेमंत सोरेन सत्ता की लालच में आज उसी की गोद में जा बैठे हैं। झारखंड विधानसभा चुनावों के मद्देनजर शाह यहां एक रैली को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: झारखंड में अमित शाह बोले, बुलेट से नहीं बैलेट से होगा विकास

शाह ने पूछा, ‘‘हेमंत सोरेन शहीदों के परिजन को क्या जवाब देंगे? हेमंत सोरेन और कांग्रेस ने स्वार्थवश गठबंधन किया है। अलग झारखंड राज्य की मांग करने वाले और विरोध करने वाले आज साथ-साथ हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पृथक झारखंड राज्य कि मांग को समर्थन देने वाले गुरुजी आज अस्वस्थ हैं और दूसरी ओर हेमंत सोरेन इसका विरोध करने वाली कांग्रेस के साथ हो गए हैं। अब एक ओर विकास करने वाली भारतीय जनता पार्टी है तो दूसरी ओर कांग्रेस और झामुमो का गठबंधन, जिसने झारखंड को भ्रष्टाचार के अलावा कुछ नहीं दिया।’’

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने जात-पात और धर्म की राजनीति के कारण राम मंदिर विवाद हल नहीं किया: अमित शाह

शाह ने जनता से अपील की कि वह भाजपा को अपना वोट देकर नरेंद्र मोदी के हाथ मजबूत करें। उन्होंने कहा कि सोनिया-मनमोहन की सरकार ने 13वें वित्त आयोग के तहत सिर्फ 55 हजार 253 करोड़ रुपए झारखंड को दिए जबकि 2014 से 2019 के बीच नरेंद्र मोदी सरकार ने राज्य को 3 लाख 8 हजार 490 करोड़ रुपए दिए हैं। उन्होंने यह भी वादा किया कि भाजपा सरकार बनते ही ओबीसी को उचित आरक्षण दिया जाएगा। यह कार्य किसी अन्य को प्रदत आरक्षण में बिना छेड़छाड़ किये किया जायेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।