शिवराज सरकार में मासूम बच्चियां बालिका गृह में भी सुरक्षित नहीं- कमलनाथ

शिवराज सरकार में मासूम बच्चियां बालिका गृह में भी सुरक्षित नहीं- कमलनाथ

कमलनाथ ने शुक्रवार सुबह एक के बाद एक लगातार कई ट्वीट कर इस पूरे मामले पर सरकार पर बड़ा हमला बोला है साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा है कि मामा के राज में बेटियां कही भी सुरक्षित नहीं है।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी में प्यारे मियां यौन शोषण मामले की शिकार नाबालिग बेटी की ज्यादा मात्रा में नींद की गोलियां खा लेने के बाद बुधवार को मृत्यु हो गई थी। गुरुवार को पोस्टमार्टम के बाद अस्पताल से ही उसके शव को सीधे शमशान घाट ले जाकर परिजनों की उपस्थिति में अंतिम संस्कार कर दिया गया। अब इस पूरे मामले पर राजनीति तेज हो गई है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के नए मामलों में कमी पूरे प्रदेश से सिर्फ 301 नये मामले, 06 लोगों की मौत

कमलनाथ ने एक के बाद एक लगातार कई ट्वीट कर इस पूरे मामले पर सरकार पर बड़ा हमला बोला है साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा है कि मामा के राज में बेटियां कही भी सुरक्षित नहीं है। कमलनाथ ने अपने ट्वीट में कहा बेहद निंदनीय, बेहद शर्मनाक। शिवराज सरकार में भांजियाँ कही भी सुरक्षित नहीं ? प्रदेश की राजधानी में यौन शोषण की शिकार मासूम बच्चियाँ बालिका गृह में भी सुरक्षित नहीं? कितनी अमानवीयता, मृत पीडि़ता को उसके घर तक नहीं जाने दिया, उससे अपराधियों जैसा व्यवहार? उसके परिवार को अंतिम रीति- रिवाजों से भी वंचित किया गया, यह कैसी निष्ठुर व्यवस्था? कहाँ है जिम्मेदार? प्रदेश को कितना शर्मशार करेंगे?

इसे भी पढ़ें: उमा भारती ने कहा सरकारी व्यवस्था ही लोगों को शराब पिलाने का प्रबंध करती है, किए 8 ट्वीट

कमलनाथ ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए कहा कि मामला बेहद गंभीर, मामले की सीबीआई जाँच हो, बाक़ी बालिकाओं को भी पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाए, उनके इलाज की भी समुचित व्यवस्था हो। दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो। गौरतलब है कि मृतक पीडि़ता प्यारे मियां यौन शोषण के मामले में बालिका गृह में रह रही थी और प्रताडऩा से तंग आकर मंगलवार को उसने नींद की गोलियां खा ली थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...