उमा भारती ने कहा सरकारी व्यवस्था ही लोगों को शराब पिलाने का प्रबंध करती है, किए 8 ट्वीट

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 21, 2021   23:04
  • Like
उमा भारती ने कहा सरकारी व्यवस्था ही लोगों को शराब पिलाने का प्रबंध करती है, किए 8 ट्वीट

शराबबंदी कहीं से भी घाटे का सौदा नहीं है शराब बंदी से राजस्व को हुई क्षति को कहीं से भी पूरा किया जा सकता है किंतु शराब के नशे में बलात्कार, हत्याएं, दुर्घटनाएं छोटी बालिकाओं के साथ दुष्कर्म जैसी घटनाएं भयावह हैं तथा देश एवं समाज के लिए कलंक है।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश में शराब की दुकानों की संख्या बढ़ाने के बारे में सरकार ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। मुख्यमंत्री के इस बयान पर भाजपा की वरिष्ठ नेत्री और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी का यह वक्तव्य अभिनंदनीय है।

इसे भी पढ़ें: ग्वालियर जिला प्रशासन की चिटफंड कंपनियों के खिलाफ कार्यवाही,109 करोड़ रुपये लागत की 126 सम्पत्तियां कुर्क

भाजपा की फायरब्रांड नेता उमा भारती ने गुरुवार को सिलसिलेवार आठ ट्वीट करते हुए कहा है कि कोरोनाकाल के लॉकडाउन के समय पर लगभग शराबबंदी की स्थिति रही। इससे यह तथ्य स्पष्ट हो गया है कि अन्य कारणों एवं कोरोना से लोगों की मृत्यु हुई किंतु शराब नहीं पीने से कोई नहीं मरा। उन्होंने कहा कि अभी हाल में उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश में शराब पीने से बड़ी संख्या में लोगों की मृत्यु हुई सड़क दुर्घटनाओं के अधिकतर कारण तो ड्राइवर का शराब पीना ही होता है। यह बड़े आश्चर्य की बात है कि शराब मृत्यु का दूत है, फिर भी थोड़े से राजस्व का लालच एवं शराब माफिया का दबाव शराबबंदी नहीं होने देता है।

इसे भी पढ़ें: पत्रकारों और मीडियाकर्मियों को नि:शुल्क कोरोना टीका लगाने कमलनाथ ने की मांग

उन्होंने अगले ट्वीट में कहा कि अगर देखा जाए तो सरकारी व्यवस्था ही लोगों को शराब पिलाने का प्रबंध करती है, जैसे मां जिसकी जिम्मेदारी अपने बालक को पोषण करते हुए रक्षा करने की होती है, वही मां अगर बच्चे को जहर पिला दे तो, सरकारी तंत्र के द्वारा शराब की दुकाने खोलना ऐसे ही है। उन्होंने आगे लिखा लिखा कि- मैं तो अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी से इस ट्वीट के माध्यम से सार्वजनिक अपील करती हूं कि जहां भी भाजपा की सरकारें हैं उन राज्यों में पूर्ण शराबबंदी की तैयारी करिए। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा फिजियोथैरेपी काउंसिल के गठन पर करेंगे विचार

उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों को चुनाव जीतने का दबाव रहता है बिहार की भाजपा की जीत यह साबित करती है कि शराबबंदी के कारण ही महिलाओं ने एकतरफा वोट नीतीश कुमार जी को दिये। शराबबंदी कहीं से भी घाटे का सौदा नहीं है शराब बंदी से राजस्व को हुई क्षति को कहीं से भी पूरा किया जा सकता है किंतु शराब के नशे में बलात्कार, हत्याएं, दुर्घटनाएं छोटी बालिकाओं के साथ दुष्कर्म जैसी घटनाएं भयावह हैं तथा देश एवं समाज के लिए कलंक है। कानून व्यवस्था को मेंटेन करने के लिए हजारों करोड़ रूपये खर्च होते हैं समाज में संतुलन बनाए रखने के लिए शराबबंदी एक महत्वपूर्ण कदम है इस पर एक डिबेट शुरू की जा सकती है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राकेश टिकैत बोले, कृषि कानून वापस नहीं लिए जाने तक जारी रहेगा आंदोलन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:42
  • Like
राकेश टिकैत बोले, कृषि कानून वापस नहीं लिए जाने तक जारी रहेगा आंदोलन

राकेश टिकैत ने शनिवार को कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह से वापस लिए जाएं और जब तक सरकार उनकी मांगे नहीं मानती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने इस मौके पर टैक्टर रैली को रवाना किया।

मुजफ्फरनगर। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक तीन नए कृषि कानून रद्द नहीं हो जाते, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन के सौ दिन पूरे होने के मौके पर यहां रामराज कस्बे में आयोजित कार्यक्रम में टिकैत ने यह कहा। टिकैत ने शनिवार को कहा कि किसानों की मांग है कि तीनों कृषि कानून पूरी तरह से वापस लिए जाएं और जब तक सरकार उनकी मांगे नहीं मानती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने इस मौके पर टैक्टर रैली को रवाना किया। 

इसे भी पढ़ें: छात्रा के सवालों का जवाब नहीं दे पाए राकेश टिकैत, फिर बंद कराया गया माइक

उन्होंने बताया कि यह रैली उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के जिलों में जाएगी और 27 मार्च को गाजीपुर में किसानों के प्रदर्शन स्थल पर पहुंचेगी। इस बीच, मुजफ्फरनगर से सांसद एवं केंद्रीय मंत्री संजीव बालयान ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए लाभकारी हैं। उन्होंने कहा, ‘‘कृषि कानूनों के कारण यदि एक भी किसान की जमीन ली गई तो मैं संसद की सदस्यता से इस्तीफा दे दूंगा। ये कानून किसानों की इच्छा के मुताबिक ही लागू किए गए हैं।’’ उल्लेखनीय है कि नवंबर माह के अंत से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


नितिन गडकरी, संघ प्रमुख ने लगवाई कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:21
  • Like
नितिन गडकरी, संघ प्रमुख ने लगवाई कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और नितिन गडकरी ने नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक लगवाई।

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को यहां कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक लगवाई। भागवत और संघ के सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी ने नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में टीके की पहली खुराक लगवाई। आज दिन में गडकरी और उनकी पत्नी ने भी इंस्टीट्यूट में टीके की पहली खुराक लगवाई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली CM केजरीवाल ने कहा- आप दलितों और उन सभी समुदायों के साथ है, जिनका कोई नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   10:16
  • Like
दिल्ली CM केजरीवाल ने कहा- आप दलितों और उन सभी समुदायों के साथ है, जिनका कोई नहीं

केजरीवाल ने यहां तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में राष्ट्रीय शोषित परिषद के परिसर का उद्घाटन करते हुए आरोप लगाया कि बीते 70 वर्षों में आर्थिक रूप से पिछड़ों को शिक्षा से वंचित रखना राजनीतिक दलों की साजिश रही है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) दलितों और उन सभी से संबंध रखती है, जिसके साथ कोई नहीं है। केजरीवाल ने यहां तुगलकाबाद औद्योगिक क्षेत्र में राष्ट्रीय शोषित परिषद के परिसर का उद्घाटन करते हुए आरोप लगाया कि बीते 70 वर्षों में आर्थिक रूप से पिछड़ों को शिक्षा से वंचित रखना राजनीतिक दलों की साजिश रही है ताकि दलित गरीब ही रहें और अमीर और अमीर बन जाएं।

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल का बड़ा ऐलान, दूसरे राज्यों की तरह दिल्ली का भी अपना शिक्षा बोर्ड होगा

मुख्यमंत्री ने कहा, बीते छह साल में हम दिल्ली में शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति लेकर आए हैं। हमने बाबा साहेब आंबेडकर के सपनों को पूरा करने के लिये काम किया है, जिन्होंने हमेशा कहा कि दलित समुदाय के लिये समाज के दूसरे तबकों के बराबर पहुंचने में शिक्षा एक कुंजी है। उन्होंने कहा, मैं भाग्यशाली हूं कि दलित समाज मेरे साथ है। दलित समुदाय ने आम आदमी पार्टी को स्वीकार किया है। यह आपकी पार्टी है। यह दलितों, गरीबों, वंचितों और उन लोगों की पार्टी है, जिनका कोई नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept