सीमा पर बढ़ते तनाव के कारण भारत और पाकिस्तान ने बढ़ाए रक्षा खर्च

india-and-pakistan-increase-defense-spending-in-2018
रिपोर्ट के मुताबिक 2018 के दौरान सैन्य साजोसामान पर सबसे ज्यादा खर्च करने वाले पांच देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, सऊदी अरब, भारत और फ्रांस शामिल हैं।

लंदन। भारत का रक्षा बजट 2018 में 3.1 प्रतिशत बढ़कर 66.5 अरब डॉलर पर पहुंच गया जबकि इस दौरान पाकिस्तान का रक्षा बजट 11 प्रतिशत की जोरदार वृद्धि के साथ 11.4 अरब डॉलर हो गया। स्वीडन के एक प्रमुख थिंक टैंक द्वारा जारी नयी रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।  वैश्विक सैन्य खर्च पर जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2018 में दुनियाभर में सैन्य साजोसामान पर कुल खर्च 1,822 अरब डॉलर पर पहुंच गया, जो इससे पिछले साल के मुकाबले 2.6 प्रतिशत अधिक रहा।

इसे भी पढ़ें: पीसबिल्डिंग कमीशन ने श्रीलंका में हुए 'अमानवीय' आतंकवादी हमलों की निंदा की

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसआईपीआरआई) ने अपनी सालाना रिपोर्ट में यह जानकारी दी है।  रिपोर्ट के मुताबिक 2018 के दौरान सैन्य साजोसामान पर सबसे ज्यादा खर्च करने वाले पांच देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, सऊदी अरब, भारत और फ्रांस शामिल हैं। इन पांचों देशों का रक्षा खर्च दुनियाभर में हुए कुल रक्षा खर्च का 60 प्रतिशत तक रहा है।

इसे भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र ने श्रीलंका में हुए आतंकवादी हमलों की निंदा की 

इस दौरान अमेरिका के रक्षा व्यय में 2010 के बाद पहली बार वृद्धि हुई जबकि चीन का रक्षा बजट लगातार 24वें साल बढ़ा है। एसआईपीआरआई की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण एशिया में भारत का रक्षा बजट 2018 में 3.1 प्रतिशत बढ़कर 66.5 अरब डॉलर रहा जबकि पाकिस्तान की सैन्य खर्च इस दौरान 11 प्रतिशत बढ़कर 11.4 अरब डॉलर पर पहुंच गया। वर्ष 2017 में भी पाकिस्तान के रक्षा बजट में इतनी ही वृद्धि हुई थी। रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में वैश्विक रक्षा व्यय वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 2.1 प्रतिशत तक पहुंच गया। यह प्रति व्यक्ति 239 डॉलर रहा है। लगातार दूसरे साल वैश्विक रक्षा खर्च में वृद्धि हुई है। 1988 के बाद यह सर्वाधिक रहा है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़