शांतिप्रिय देश है भारत, राजनाथ बोले- ज़रुरत हुई तो किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार

शांतिप्रिय देश है भारत, राजनाथ बोले- ज़रुरत हुई तो किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार

अपने संबोधन में रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है। किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है।

चंडीगढ में 'ट्रर्मिनल बैलिस्टिक रिसर्च लेबोरेटरी'(TBRL) के लोगों को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संबोधित किया। अपने संबोधन में राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत हमेशा शांतिप्रिय देश रहा है पर हम किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हैं। न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक राजनाथ सिंह ने कहा कि किसी समय 2 कमरों से शुरू हुई यह लेबोरेटरी(TBRL) आज देश को महत्वपूर्ण रक्षा तकनीक और क्षमताएं प्रदान करने वाले लेबोरेटरी बन चुकी है।

अपने संबोधन में रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है। किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है। अगर ज़रुरत होती है तो हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम कहते थे कि दुनिया में भय की जगह नहीं है। एक शक्ति ही दूसरी शक्ति का सम्मान करती है। भारत को हम सशक्त बनाना चाहते हैं ताकि दुनिया में बड़ी से बड़ी ताक़त के सामने आँख झुकाकर नहीं बल्कि आँख में आँख डालकर बात करना पड़े। 

इसे भी पढ़ें: व्यापार को बढ़ावा देने के लिए भारतीय समुद्री क्षेत्र में शांति, स्थिरता बनाए रखने की जरूरत: राजनाथ

वहीं इस मौके पर CDS जनरल बिपिन रावत ने कहा कि सीमाओं पर चुनौतियां हैं और इनका सामना करने के लिए हमें उच्च तकनीकी सिस्टम की ज़रुरत है। हमारे प्रतिद्वंदी तेजी से युद्ध में तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसका मुकाबला करने के लिए हमें भी तकनीक का इस्तेमाल करना होगा। हमें टीबीआरएल (टर्मिनल बैलिस्टिक्स रिसर्च लेबोरेटरी) पर बहुत गर्व है क्योंकि आप जिस तरह का काम कर रहे हैं, उससे हमारे सशस्त्र बलों को सक्षम बनने में मदद मिलेगी। अभी जरूरत है, सीमाओं पर हमारे सामने चुनौतियां हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।