भारत सीमा पार से पनाह और समर्थन वाले आतंकवाद का पीड़ित: मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 20, 2019   18:37
भारत सीमा पार से पनाह और समर्थन वाले आतंकवाद का पीड़ित: मोदी

साक्षात्कार पुलवामा अतंकी हमले के बाद ऐसे समय प्रकाशित हुआ है जब सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान पहली आधिकारिक भारत यात्रा पर हैं।

रियाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर परोक्ष हमला बोलते हुए कहा है कि भारत ‘‘सीमा पार से पनाह और समर्थन’’ वाले आतंकवाद से पीड़ित है। उन्होंने आह्वान किया कि देशों को दूसरे देशों के खिलाफ आतंकवाद का इस्तेमाल बंद करना चाहिए और आतंकी ढांचों को नष्ट करना चाहिए तथा आतंकवाद का वित्तपोषण बंद करना चाहिए। अरबी भाषा के अखबार ‘ओकाज’ के बुधवार संस्करण और अंग्रेजी भाषा के अखबार ‘सऊदी गजट’ में प्रकाशित साक्षात्कार में मोदी ने कहा कि भारत सभी तरह के चरमपंथ और आतंकवाद को खारिज करता है।

साक्षात्कार पुलवामा अतंकी हमले के बाद ऐसे समय प्रकाशित हुआ है जब सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान पहली आधिकारिक भारत यात्रा पर हैं। पुलवामा में पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के एक आतंकवादी द्वारा किए गए आत्मघाती हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवान शहीद हो गए थे। मोदी ने सऊदी अरब के करीबी सहयोगी पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा, ‘‘भारत दशकों से सीमा पार से पनाह और समर्थन प्राप्त आतंकवाद का पीड़ित रहा है जिसने हजारों निर्दोष लोगों की जान ली है।’’

यह भी पढ़ें: कांग्रेस का मोदी पर हमला, कहा- पाक की तारीफ करने वाले को गले लगाना सही नहीं

प्रधानमंत्री ने कहा कि चरमपंथ और और आतंकवाद की बुराई सभी राष्ट्रों और समाजों के लिए खतरा हैं और इसे किसी विशेष नस्ल, धर्म या संस्कृति से जोड़े जाने के किसी भी प्रयास को खारिज किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी देशों का यह आह्वान भी करते हैं कि वे अन्य देशों के खिलाफ आतंकवाद के इस्तेमाल को खारिज करें, आतंकी ढांचों को नष्ट करें और इसका वित्तपोषण बंद करें।’’प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सभी तरह के चरमपंथ और आतंकवाद को खारिज करता है चाहे इसके पीछे कहीं भी, किसी के भी द्वारा, कोई भी मकसद हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।